November 21, 2017

Latest News

नामांतरण, बंटवारे से लेकर खेती-किसानी तक की बात हुई ग्राम सभा में कलेक्टर ग्राम नलवा की विशेष ग्राम सभा में शामिल हुए

उज्जैन 06 सितम्बर। उज्जैन जिले में आज 6 सितम्बर से तीन दिवसीय राजस्व मामलों के  सिलसिले में विशेष ग्राम सभाएं आयोजित की जा रही हैं। कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे उज्जैन जनपद के ग्राम नलवा एवं खरेट की ग्राम सभाओं में शामिल हुए। उन्होंने फौती नामांतरण, अविवादित बंटवारे, खसरा बी-1 की नकल एवं खसरा बी-1 के वाचन से सम्बन्धित किसानों से सीधे प्रश्न किये। शत-प्रतिशत किसानों ने बताया कि उन्हें खसरा बी-1 की नकल घर जाकर पटवारी द्वारा दी गई है। साथ ही सभी को भू-अधिकार पुस्तिका भी मिल गई है।

कलेक्टर ने नलवा की नई आबादी के रहवासियों से चर्चा की तथा सरपंच एवं पटवारी को निर्देश दिये कि एक सप्ताह में सभी रहवासियों को भू-अधिकार पट्टे मिल जाना चाहिये। कलेक्टर ने ग्राम सभा में न केवल राजस्व से सम्बन्धित बात की, बल्कि एक-एक ग्रामीण से खेती-किसानी, स्वच्छता, शौचालय, सीमांकन, रास्ते के विवाद और अन्य विषयों पर खुलकर चर्चा की। ग्रामीणों से घुल-मिलकर बात करने से कई मु्द्दे स्वत: ही निकलकर आये और ग्राम सभा में ही निराकृत हो गये।

 

 

 

ग्रामीण धीरे-धीरे खुले

ग्राम सभा में कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे, एसडीएम श्री क्षितिज शर्मा एवं जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एके जैन सहित शासकीय अमला मौजूद था। कलेक्टर से चर्चा में ग्रामीणों में शुरूआत में कुछ झिझक थी, किन्तु सहज व्यवहार से ग्रामीण कलेक्टर से खुल गये और उन्होंने अपने घर-द्वार की बात करना शुरू कर दी। ग्रामीण बालाराम ने कहा कि उनकी जमीन गोल खाते में चली आ रही है, वे अपने परिवार के लोगों में इस जमीन का बंटवारा चाहते हैं, लेकिन समझ नहीं आ रहा कि क्या करें। कलेक्टर ने तुरन्त कहा कि आपको इसके लिये पटवारी को आवेदन देना होगा और एक सप्ताह में गोल खाते का बंटवारा हो जायेगा। खाते का बंटवारा इतनी आसानी से हो जायेगा, यह सुनकर ग्रामीण के चेहरे पर चमक आ गई। बालाराम ने साथ ही यह भी पूछा कि उज्जैन में तहसील के चक्कर तो नहीं लगाना पड़ेंगे। कलेक्टर ने ग्रामीणों को स्पष्ट किया कि अविवादित नामांतरण, बंटवारे के अधिकार ग्राम पंचायत को ही हैं। आगामी तीन दिनों तक ग्राम सभा जारी रहेगी। जो भी अविवादित नामांतरण, बंटवारे कराना चाहें वे अपने आवेदन लगा दें और सभी हितग्राही मौजूद होकर अपनी सहमति दे दें तो तुरन्त ही नामांतरण, बंटवारा हो जायेगा।

सब जमीन नाम कर दोगे तो बुढ़ापे में कौन देखभाल करेगा

नलवा की ग्राम सभा में एक बुजुर्ग लालजी ने इच्छा जाहिर की कि वह अपनी जमीन एकमात्र पुत्र के नाम जीते-जी करना चाहता है। कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने बुजुर्ग से प्रतिप्रश्न किया कि वे ऐसा क्यों करना चाहते हैं और यदि समस्त जमीन लड़के के नाम कर देंगे और बाद में लड़के ने उनकी देखभाल न की तो फिर क्या करेंगे? बुजुर्ग की समझ में बात आई और उन्होंने कहा कि आधी जमीन कर देता हूं और आधी खुद रख लेता हूं। कलेक्टर ने पटवारी से कहा कि इस प्रकरण में कोई समस्या नहीं आना चाहिये। तुरन्त ही कार्यवाही की जाये। कलेक्टर ने ग्रामीणों से कहा कि उनके सामने कई ऐसे मामले आते हैं, जब वृद्धावस्था में बुजुर्ग पुत्रों के मोह में अपनी सम्पत्ति उनके नाम कर देते हैं और बाद में वही पुत्र उनकी देखभाल नहीं करते हैं। इसलिये जो भी करना है सोच-समझकर करना चाहिये।

निस्तार के लिये जमीन रखें

कलेक्टर ने ग्राम सभा में ग्रामीणों से चर्चा करते हुए कहा कि ग्राम में विभिन्न कार्यों के लिये काम आने वाली शासकीय भूमि को वाजिब उल अर्ज में दर्ज करवाया जाये। सार्वजनिक प्रयोग के लिये उपयोग में आने वाले शमशान की भूमि, पनघट, शासकीय भवनों के आसपास की भूमि आदि पर अतिक्रमण नहीं किया जाना चाहिये। कलेक्टर ने स्पष्ट किया कि अतिक्रमण करने वाले व्यक्तियों की पहचान कर उन्हें शासन की ओर से दी जाने वाली सहायता बन्द कर दी जाये।

कम पानी की फसल बोने का संकल्प लिया

ग्राम सभा में कलेक्टर ने नलवा के सभी किसानों से चर्चा की तथा बताया कि इस बार बारिश कम होने के कारण कम पानी की फसलें लेना अनिवार्य हो गया है। उन्होंने गेहूं की बजाय चना, सरसो एवं अलसी लगाने की बात कही। कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक एवं उप संचालक कृषि द्वारा भी कम पानी की फसलों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। कलेक्टर ने ग्रामीणों से यह भी स्पष्ट किया कि गंभीर डेम से यदि कोई भी व्यक्ति सिंचाई के लिये पानी लेते पाया गया तो उसके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करते हुए मोटर जप्त की जायेगी। कलेक्टर की समझाईश पर सभी किसानों ने एकमत से संकल्प लिया कि वे कम पानी की फसल ही इस बार लगायेंगे। उल्लेखनीय है कि ग्राम नलवा गंभीर कैचमेंट एरिये के पास में है और यहां पर कुल 363 किसान खेती का कार्य करते हैं। किसानों ने आश्वस्त किया कि वे उनके खाने के लिये आवश्यक गेहूं के अलावा गेहूं नहीं बोयेंगे। कलेक्टर ने गांव के 175 छोटे किसानों को कृषि विभाग से मिनी किट वितरित करने के निर्देश भी दिये हैं।

 

ग्राम सभा में नाबार्ड के महाप्रबंधक श्री दीपक घोरपड़े ने किसानों को प्याज भण्डारण के लिये गोडाउन बनाने की जानकारी दी तथा बताया कि किसानों को कृषि कार्य के लिये जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक द्वारा ऋण उपलब्ध कराया जाता है, इसका लाभ उन्हें लेना चाहिये।

नई आबादी के पट्टे दिये जायेंगे

ग्राम सभा में कलेक्टर ने पूछा कि इस गांव में नई आबादी है या नहीं। ग्रामीणों ने जवाब दिया कि लगभग 75 लोग सड़क के पास मकान बनाकर रह रहे हैं। नये सिरे से कोई आबादी का क्षेत्र घोषित करने की आवश्यकता नहीं है। कलेक्टर ने नई आबादी में रहने वाले 75 परिवारों को 900-900 वर्गफीट के पट्टे देने के निर्देश ग्राम पंचायत को दिये हैं। उन्होंने इसके साथ शर्त रखी है कि पट्टे उन्हीं व्यक्तियों को दिये जायें जो अपने घरों में शौचालय बनाकर उपयोग करेंगे।

जयराम शौचालय दूत बने

कलेकटर ने ग्राम सभा में स्वच्छता अभियान के बारे में चर्चा की तथा ग्रामीणों से पूछा कि किस-किस व्यक्ति के घर में शौचालय नहीं बना है। अधिकांश ग्रामीणों ने अपने घर में शौचालय बने होने की बात कही। कुछ ग्रामीणों के घर अभी भी शौचालय नहीं होने की बात सामने आने पर कलेक्टर ने निर्देश दिये कि आगामी 15 दिवस में सभी के घर शौचालय बन जाने चाहिये। उन्होंने कहा कि न केवल शौचालय बन जाना चाहिये, बल्कि इनका उपयोग भी कराया जाना होगा। शौचालय बनाकर उपयोग नहीं करने वाले व्यक्तियों को शासन से दिये जाने वाले पेंशन, खाद्यान्न एवं अन्य योजनाओं के लाभ नहीं देने के निर्देश दिये हैं। चर्चा के बीच में ग्रामीण जयराम ने खड़े होकर कहा कि उन्होंने अपने पैसे से शौचालय बनाया है और पिछले 10 साल से उसका उपयोग कर रहे हैं। कलेक्टर ने जयराम के लिये ग्राम सभा में ताली बजवाई और कहा कि आप इस गांव के शौचालय दूत हैं।

आप तो नलवा के निवासी ही लगते हो

कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने नलवा में ग्रामीणों से सहज भाव से चर्चा कर उनका दिल जीत लिया। ग्रामीणों ने ग्राम की सरपंच श्रीमती सज्जनबाई की उपस्थिति में कलेक्टर का साफा बांधकर एवं श्रीफल भेंटकर स्वागत किया। कलेक्टर की सहजता को देखकर ग्रामीणों ने कहा कि लगता नहीं कि आप कलेक्टर हो, बल्कि आप तो हमारे ग्राम नलवा के ही नजर आते हो। कलेक्टर ने कहा कि आज जितनी भी बातें हुई हैं, इनका कितना पालन हुआ है यह देखने के लिये एक महीने बाद फिर नलवा आऊंगा।

क्रमांक 3052                                       हरिशंकर शर्मा (मो.नं.-9424863313)/जोशी