November 21, 2017

Latest News

प्रत्येक जिले में युद्ध स्तर पर रोकें पानी, समाधान ऑनलाइन वीसी में मुख्यमंत्री ने दिए निर्देश

20170907_172655

उज्जैन 07 सितम्बर। इस बार प्रदेश के अधिकतर जिलों में सामान्य से कम वर्षा हुई है, ऐसे में सूखे की स्थिति बन रही है। अत: सभी कलेक्टर्स अपने-अपने जिलों में युद्ध स्तर पर पानी रोकें। इसके लिए शटर लगाना, स्टापडेम मरम्मत तथा पानी रोकने के सभी उपाय किए जाएं। पेयजल के लिए पानी सुरक्षित रखें, सिंचाई के पानी का समान वितरण करें तथा राहत के कार्य आवश्यकता अनुसार चालू करें। सब मिलकर सूखे के आसन्न संकट का सामना करने की पूरी तैयारी कर लें।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज गुरूवार को समाधान ऑनलाइन वीसी के माध्यम से यह निर्देश दिए। एनआईसी उज्जैन में वीसी में संभागायुक्त श्री एमबी ओझा, एडीजी श्री व्ही.मधुकुमार, कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे, एसपी श्री सचिन अतुलकर तथा विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

वीसी में मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि आगामी 30 सितम्बर तक सभी जिलों में सूखे की स्थिति का आंकलन पूरा कर लिया जाए, जिससे कि 01 अक्टूबर को रिपोर्ट भारत सरकार को भिजवाई जा सके। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि सभी जिलों में अऋणी किसानों की फसल बीमा प्रीमियम की राशि समय पर जमा होना कलेक्टर सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां नुकसान हुआ है, वहां क्रॉप कटिंग एक्सपरिमेंट सावधानी से तथा समय पर किए जाएं, जिससे किसानों को बीमा कंपनी से हानि का मुआवजा मिल सके।

मुख्यमंत्री ने बताया कि कई जिलों से बलराम तालाबों की किश्तें हितग्राहियों को समय पर नहीं मिलने की शिकायतें आ रही हैं। कृषि विभाग सुनिश्चित करे कि समय पर बलराम तालाब की किश्तें हितग्राहियों को मिल जाएं। जहां ऐसा नहीं होता है वहां कृषि विभाग के अधिकारी पर कार्रवाई की जाए। मुख्यमंत्री ने कुछ जिलों में सीएम हेल्पलाइन के अन्तर्गत प्रकरण फोरक्लोज किए जाने पर घोर आपत्ति दर्ज कराते हुए कहा कि ऐसा पाए जाने पर सम्बन्धित अधिकारी के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाए।

मुख्यमंत्री ने प्रदेश में स्वाइन फ्लू के बढ़ते प्रकरणों को खतरनाक बताते हुए इस बीमारी की रोकथाम एवं उपचार के प्रदेश में ठोस उपाय किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पड़ोसी राज्यों में ये बीमारी काफी फैल रही है तथा वहां से आने वाले लोगों से बीमारी का संक्रमण न हो, इसके लिए आवश्यक उपाय किए जाएं। बीमारी के उपचार की हर दिन मॉनीटरिंग करें। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि बीमारी के लक्षण दिखते ही टेमीफ्लू की गोली दें, बीमारी के उपचार में देर न करें, देर होने पर बीमारी जानलेवा हो सकती है। शासकीय अस्पतालों के अलावा जिन निजी चिकित्सालयों में वेंटिलेटर की सुविधा है, वहां भी आइसोलेशन वार्ड बनाए जाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब मरीजों के उपचार के लिए मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान के प्रकरण बनाए जाएं।

मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन 17 सितम्बर को प्रदेश में स्वच्छता दिवस के रूप में मनाया जाएगा तथा सब जगह स्वच्छता कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। उन्होंने इस बात के लिए सम्बन्धितों को बधाई दी कि 80 प्रतिशत स्वच्छता के पुरस्कार मध्य प्रदेश के शहरी क्षेत्रों को प्राप्त हुए हैं।

मुख्यमंत्री ने प्रदेश में राजस्व प्रकरणों के त्वरित निराकरण के लिये मुख्य सचिव को बधाई दी तथा निर्देश दिए कि आगे भी यह कार्य सर्वोच्च प्राथमिकता पर होगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में राजस्व अमले पटवारी, तहसीलदार आदि की बड़ी संख्या में भर्ती की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि जो अधिकारी-कर्मचारी 20 साल की सेवा अथवा 50 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके हैं एवं शासकीय कार्य नहीं करते हैं अथवा गड़बड़ी करते हैं, उनकी सूची बना ली जाए, उन्हें अनिवार्य सेवा निवृत्ति दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री के ‘संकल्प से सिद्धि’ अभियान को प्रदेश में प्रभावी रूप से चलाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इसके अन्तर्गत 2022 तक प्रदेश में कृषि आय को दोगुना किए जाने का संकल्प लिया गया है, जिसे पूरा करना है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 15 सितम्बर से 15 अक्टूबर तक प्रत्येक विकास खण्ड में किसान सम्मेलनों का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस बार भी प्रदेश में कृषि की विकास दर काफी अच्छी लगभग 29.8 प्रतिशत संभावित है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी 10 सितम्बर को वे सायं 6 से 6.30 बजे तक आकाशवाणी के माध्यम से प्रदेश के बच्चों से ‘दिल से’ कार्यक्रम के अन्तर्गत बातचीत करेंगे। सभी कलेक्टर अपने-अपने जिलों में इसका प्रचार-प्रसार करें, जिससे बच्चों को इसकी जानकारी प्राप्त हो सके।

इस बार भी संभाग के अधिकारी अव्वल

वीसी में माह अगस्त में सीएम हेल्पलाइन 181 के प्रकरणों के निराकरण में उज्जैन संभाग के 04 अधिकारी अव्वल रहे, जिन्हें मुख्यमंत्री द्वारा शाबाशी दी गई। उज्जैन जिले से सहकारिता विभाग के उपायुक्त श्री ओपी गुप्ता तथा खाद्य विभाग की कनिष्ट आपूर्ति अधिकारी सुश्री माया दिनकर को तथा देवास जिले से उपायुक्त सहकारिता श्री मनोज जायसवाल को मुख्यमंत्री ने बधाई दी। इसी के साथ नीमच जिले के एक अधिकारी को भी मुख्यमंत्री द्वारा बधाई दी गई।

क्रमांक 3072                                     पंकज मित्तल (मो.नं.-9301209255)/जोशी