July 18, 2018

Latest News

सफलता की कहानी-बस यूं ही पंजीयन करवाया था, यकीन नहीं था कि इतना मिलेगा, भावान्तर की राशि खाते में आई तब लगा सरकार किसानों के साथ खड़ी है

001 उज्जैन 05 दिसम्बर। ग्राम भैंसोला तहसील खाचरौद जिला उज्जैन के किसान ऋतुराजसिंह रोजमर्रा की तरह अपने खेतों पर काम कर रहे थे। दोपहर का वक्त था, अचानक उनके मोबाइल की घंटी बजी। दूसरी तरफ उज्जैन मंडी के सचिव श्री राजेश गोयल थे। मंडी सचिव ने उन्हें बताया कि उज्जैन के किसान सम्मेलन में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं भावान्तर योजना के तहत 63 हजार 140 रूपये की राशि उनके खाते में अन्तरित करेंगे। साथ ही मंच पर उनका सम्मान करते हुए उन्हें इसका प्रमाण-पत्र भी देंगे। कृषक ऋतुराज सिंह ने कभी सोचा नहीं था कि वे जिले के किसानों का प्रतिनिधित्व करते हुए मुख्यमंत्री से भावान्तर की राशि का प्रमाण-पत्र लेंगे। ऐसा मौका पाकर वे न केवल प्रसन्न थे, बल्कि आश्चर्यचकित भी। ऋतुराज सिंह बताते हैं कि वे और उनके जैसे कई किसान मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना को सतही घोषणा की तरह ले रहे थे। उन्होंने अपने भाई के कहने पर बस यूं ही पंजीयन करवा लिया था। पंजीयन के बाद बात आई-गई हो गई, लेकिन जब 21 नवम्बर को मंडी सचिव का फोन ऋतुराजसिंह के पास आया तो उन्हें इस योजना की गहराई का अंदाजा हुआ। ग्राम भैंसोला के ऋतुराजसिंह ने इस बार 65 बीघा में सोयाबीन लगाया। लगभग 350 क्विंटल सोयाबीन की उपज हुई। इसमें से उन्होंने 134 क्विंटल 32 किलोग्राम सोयाबीन मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना के तहत 16 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक वाली समयावधि में खाचरौद मंडी में सोयाबीन विक्रय किया। इस अवधि में सोयाबीन का भावान्तर राज्य शासन द्वारा 471 प्रति क्विंटल घोषित किया गया। ऋतुराजसिंह को कुल 63 हजार 140 रूपये की भावान्तर राशि शासन द्वारा प्रदान की गई है। ऋतुराज कहते हैं कि भावान्तर योजना उनके ऐसे कई किसानों के लिये वरदान सिद्ध हो रही है। सोयाबीन के भाव इस बार अत्यधिक कम थे और लग रहा था कि उन्हें इस फसल में बड़ा घाटा होगा, किन्तु सरकार की इस योजना ने उन्हें घाटे से उबार लिया है। वे इस योजना के लिये मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का धन्यवाद करते हुए बताते हैं कि सरकार किसानों के हित में अच्छे काम कर रही है और इसके लिये सरकार का कोटि-कोटि धन्यवाद। प्रदेश सरकार ने सभी किसानों के लिये जिस तरह यह योजना शुरू की है, वैसी पहले कभी नहीं हुई। यह एक अच्छी पहल है और उम्मीद है कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आगे भी किसानों के हित में अच्छा काम करेंगे। ऋतुराजसिंह इस बात से भी प्रसन्न हैं कि इस सरकार ने उनके गांव में एक स्टापडेम मंजूर कर दिया है, जिससे सिंचाई का रकबा बढ़ेगा। ऋतुराजसिंह कहते हैं कि जब सरकार संकट में किसानों के साथ खड़ी है तो वे भी सरकार के साथ खड़े रहेंगे। फोटो – किसान श्री ऋतुराजसिंह ।

क्रमांक 3964 हरिशंकर शर्मा (मो.नं.-9424863313)/जोशी