May 23, 2018

Latest News

हम सबको मिलकर स्वच्छता पर विशेष ध्यान देना चाहिये –श्री माखनसिंह चौहान, स्वच्छता को आत्मसात करने की जरूरत –प्रमुख सचिव श्री श्रीवास्तव, महाकाल मन्दिर स्वच्छ आइकॉनिक स्थल घोषित होने पर समस्त सहयोगियों को प्रतिकृति वितरण कर धन्यवाद ज्ञापित

DSC_0734DSC_0778DSC_0949DSC_0953

उज्जैन 14 दिसम्बर। स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत भारत सरकार द्वारा श्री महाकालेश्वर मन्दिर को फेज-2 में स्वच्छ आइकॉनिक स्थल घोषित करने तथा अन्तर्राष्ट्रीय विकलांग दिवस पर दिव्यांगजन सशक्तिकरण हेतु राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किये जाने पर महाकाल प्रवचन हॉल में मन्दिर समिति द्वारा कार्यक्रम आयोजित कर समस्त सहयोगियों को प्रतिकृति वितरण कर उनका धन्यवाद ज्ञापित किया गया। इस अवसर पर केन्द्रीय सिंहस्थ समिति के अध्यक्ष श्री माखनसिंह चौहान ने कहा कि हम सबको स्वच्छता पर विशेष ध्यान देना चाहिये। समाज में अच्छे काम करने वाले बहुत लोग हैं। श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति द्वारा सहयोगियों को प्रतिकृति वितरण कर धन्यवाद ज्ञापित किया गया है, यह प्रशंसनीय है। श्री चौहान ने कहा कि पवित्रता, स्वच्छता प्रत्येक स्थल पर होना आवश्यक है और इसके लिये हम सबकी महत्वपूर्ण भूमिका होना चाहिये।

कार्यक्रम में संस्कृति, धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग के प्रमुख सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव ने स्वच्छता को आत्मसात करने की जरूरत बताई। स्वच्छता के लिये हमारे संस्कारों में पवित्रता लाना आवश्यक है। स्वच्छता एक परम्परा है। इसका निर्वहन हम सबको करना चाहिये। स्वच्छता के पुनीत काम में निरन्तरता बनी रहे, यह हम सबकी जिम्मेदारी है। पृथ्वी के नाभिस्थल उज्जयिनी से स्वच्छता की बात जाती है, तो सम्पूर्ण राष्ट्र के साथ-साथ विदेशों को भी सन्देश पहुंचेगा। प्रमुख सचिव श्री श्रीवास्तव ने शैव महोत्सव के आयोजन की भी प्रशंसा करते हुए कहा कि शैव महोत्सव में पूजा पद्धति आदि पर मंथन होगा। उन्होंने एकात्म यात्रा पर भी अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि यह यात्रा आदिशंकराचार्यजी के चार स्थानों पर जाने से उन स्थानों से निकाली जायेगी। यात्रा 19 दिसम्बर से निकलेगी। उज्जैन में एकात्म यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आयेंगे। जनसहयोग से आदिशंकराचार्य की प्रतिमा की स्थापना ओंकारेश्वर में करने के लिये एकात्म यात्रा निकाली जा रही है।

महामंडलेश्वर श्री अतुलेश्वरानन्दजी महाराज ने कहा कि भारत सरकार के द्वारा फेज-2 में विश्व प्रसिद्ध श्री महाकालेश्वर मन्दिर को स्वच्छ आइकॉनिक स्थल घोषित किया गया है, सराहनीय है। महाकाल मन्दिर प्रबंध समिति के द्वारा दिव्यांगजनों के लिये भी बाधारहित वातावरण का निर्माण किया गया है, यह भी प्रशंसनीय है। मन्दिर प्रबंध समिति के द्वारा उज्जयिनी की धरती पर बारह ज्योतिर्लिंगों के प्रतिनिधियों के समागम के लिये शैव महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है।

 

शैव महोत्सव के बारे में जानकारी दी गई

श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति के सदस्य श्री विभाष उपाध्याय ने शैव महोत्सव के बारे में जानकारी देते हुए अवगत कराया कि श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति के द्वारा 5, 6 एवं 7 जनवरी को शैव महोत्सव आयोजित होगा। उन्होंने शैव महोत्सव समागम के उद्देश्य, व कार्यक्रम के स्वरूप के विषय में विस्तार से बताया। उन्होने कहा कि, 4 व्यास पीठ बनेगी जिनके अर्न्तगत सत्रों को 4 भागों में बांटा गया है प्रथम सत्र में द्वादश ज्योतिर्लिंग के महत्व के संबंध में तीन प्रकार से चर्चा की जावेगी। जिसमें अधिदैविक में आगम/तंत्र ग्रंथ, पुराण, स्मृति वेदांग में भगवान के साकार स्वरूप का विवेचन, अधिभौतिक में ऐतिहासिक, भौगोलिक और वैज्ञानिक महत्व एवं आध्यात्मिक में भगवान के निराकार स्वरूप का विवेचन व वैदिक साहित्य के रहस्य का प्रकाशन और विभिन्न शैव दर्शनों का प्रतिपादन पर चर्चा की जायेगी। दूसरे सत्र में वेदों के अनुरूप पूजा पद्धति का निरूपण एवं तद्नुसार एकरूपता का निर्धारण व कर्मकाण्ड है। तीसरा सत्र व्यवस्था एवं प्रबंधन से संबंधित रहेगा, जिसमें पौराणिक संदर्भों को दृष्टिगत रखते हुए आधुनिक प्रबंधन पद्धति एवं संस्थान के प्रयोग करने हेतु उत्कृष्ट व्यवस्था का निर्माण करना है। संगोष्ठी के चौथे विषय में सामाजिक समरसता एवं सामाजिक कार्यो पर चर्चा की जावेगी। साथ ही उद्घाटन सत्र, डाक टिकिट, वेद अलंकरण, शोभायात्रा एवं प्रदर्शनी के संबंध में भी जानकारी दी गई।

श्री महाकालेश्वर मन्दिर को स्वच्छ आइकॉनिक स्थल घोषित होने एवं दिव्यांगजन सशक्तिकरण हेतु राष्ट्रीय पुरस्कार मिलने पर श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति की ओर से सहयोगियों को अतिथियों के द्वारा प्रतिकृति वितरित कर धन्यवाद ज्ञापित कर सम्मानित किया गया। सम्मान पाने वालों में सांसद, नगर निगम अध्यक्ष, मन्दिर प्रबंध समिति द्वारा संचालित दुकानदारों के समूह, माधव सेवा न्यास द्वारा संचालित दुकानदारों के समूह, सामाजिक संस्था रूपांतरण, पुजारी समिति, पुरोहित समिति, मन्दिर के कर्मचारियों का समूह मन्दिर के समस्त अधिकारियों का समूह, मीडिया का समूह, प्रमुख सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव, संभागायुक्त, पुलिस अधीक्षक, महानिर्वाणी अखाड़े के महन्त के प्रतिनिधि श्री रामेश्वरदासजी महाराज, अशासकीय सदस्य श्री विभाष उपाध्याय, जगदीश शुक्ला, पुजारी प्रदीप गुरू, शासकीय संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य, यूडीए अध्यक्ष श्री जगदीश अग्रवाल, प्रशासक श्री प्रदीप सोनी, सिंहस्थ मेला प्राधिकरण अध्यक्ष श्री दिवाकर नातू आदि शामिल हैं।

कार्यक्रम में महामंडलेश्वर श्री अतुलेश्वरानन्दजी महाराज, सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय, केन्द्रीय सिंहस्थ समिति के अध्यक्ष श्री माखनसिंह चौहान, प्रमुख सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव, सिंहस्थ मेला प्राधिकरण अध्यक्ष श्री दिवाकर नातू, नगर निगम अध्यक्ष श्री सोनू गेहलोत, यूडीए अध्यक्ष श्री जगदीश अग्रवाल, महाकाल मन्दिर प्रबंध समिति के सदस्य श्री विभाष उपाध्याय, श्री प्रदीप पुजारी, श्री जगदीश शुक्ला, प्रशासक श्री प्रदीप सोनी, श्री रामेश्वरदास महाराज, सहायक प्रशासक सुश्री प्रीति चौहान, श्री सतीश व्यास, सहायक प्रशासनिक अधिकारी श्री दिलीप गरूड़, श्री एसपी दीक्षित, प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारगण आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन वैदिक शोध संस्थान के प्रभारी प्राचार्य डॉ.पीयूष त्रिपाठी ने किया और अन्त में आभार सहायक प्रशासक सुश्री प्रीति चौहान ने प्रकट किया।

कार्यक्रम के प्रारम्भ में कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे एवं प्रशासक श्री प्रदीप सोनी ने अतिथियों का पुष्पहारों से स्वागत किया। इसके पूर्व भगवान महाकाल के चित्र के समक्ष अतिथियों ने दीप प्रज्वलन कर चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। कार्यक्रम में शपथ ली गई कि “हम शपथ लेते हैं कि हम सब श्री महाकालेश्वर मन्दिर व इसके परिसर को साफ एवं स्वच्छ रखेंगे तथा पूर्ण भागीदारी एवं मनोयोग से यह कार्य करेंगे, न हम स्वयं गन्दगी करेंगे और न होने देंगे। आज हम जो शपथ ले रहे हैं वह अन्य 100 व्यक्तियों को भी दिलवायेंगे। मुझे पता है कि स्वच्छता की ओर बढ़ाया गया मेरा एक कदम पूरे भारत देश को स्वच्छ बनाने में सहयोग करेगा। साथ ही अपने दिव्यांग भाई-बहनों के प्रति असीम आत्मीयता का भाव रखेंगे एवं उनका सम्मान करेंगे।“

महाकाल मन्दिर की स्वच्छता एवं अन्य कार्यों के लिये

9 करोड़ 92 लाख की राशि का एमओयू हुआ

भारत सरकार के द्वारा स्वच्छता अभियान को पूरे देश में प्रमुखता से लिया जा रहा है। इसके लिये फेज-2 में श्री महाकालेश्वर मन्दिर को स्वच्छ आइकॉनिक स्थल घोषित करने के साथ ही एनएचडीसी एवं महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति के बीच गुरूवार 14 दिसम्बर को संयुक्त रूप से एमओयू साइन किया गया है। इस कार्य के लिये मन्दिर के पं.आशीष का विशेष सहयोग रहा है। अब श्री महाकालेश्वर मन्दिर की स्वच्छता एवं अन्य कार्यों के लिये एनएचडीसी द्वारा 7 करोड़ 92 लाख रूपये स्वीकृत हुए हैं। मन्दिर में आधुनिक मशीनों से सफाई, 10-10 सीटर के 02 चलित शौचालय, 25 चलित पेशाब-घर, सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, 100 किलोवॉट का सोलर प्लांट, शुद्ध पेयजल के लिये चलित आरओ वॉटर प्लांट, स्वास्थ्य के लिये 02 एम्बुलेंस, दिव्यांगजनों के लिये 10 ई-रिक्शा तथा श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति द्वारा संचालित नि:शुल्क अन्नक्षेत्र की मरम्मत एवं आधुनिकीकरण के कार्य किये जायेंगे। एनएचडीसी द्वारा प्रथम चरण में 4 करोड़ रूपये की लागत से कार्य कराये जायेंगे तथा द्वितीय चरण में 3 करोड़ 92 लाख रूपये के काम किये जायेंगे।

क्रमांक 4041                                        संतोष कुमार उज्जैनिया (मो.नं.-9425379653)/जोशी