June 25, 2018

Latest News

फर्जी रजिस्ट्रियां संज्ञान में आये तो सम्बन्धित के विरूद्ध एफआईआर दर्ज कराई जाये, निर्वाचन के काम में विशेष रूप से ध्यान दिया जाये, शासकीय सेवकों को अपने-अपने मुख्यालय पर रहने हेतु पाबन्द किया जाये,संभागायुक्त श्री ओझा ने कलेक्टर कॉन्फ्रेंस में दिये निर्देश

उज्जैन 14 जून। उज्जैन संभागायुक्त श्री एमबी ओझा ने सिंहस्थ मेला कार्यालय के सभाकक्ष में गुरूवार 14 जून को अपराह्न में कलेक्टर कॉन्फ्रेंस लेकर निर्देश दिये कि सभी कलेक्टर्स अपने-अपने जिले में फर्जी रजिस्ट्रियां संज्ञान में आने पर शीघ्र एक्शन लेकर सम्बन्धित के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करायें। साथ ही निर्वाचन के काम में विशेष ध्यान देते हुए निर्वाचन आयोग से समय-समय पर प्राप्त होने वाले दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन किया जाना सुनिश्चित किया जाये। संभागायुक्त श्री ओझा ने जिला कलेक्टरों को निर्देश दिये हैं कि वे शासकीय सेवकों को मुख्यालय पर रहने हेतु पाबन्द करें। निर्देशों का पालन न करने वाले सेवकों से सख्ती से निपटा जाये।

संभागायुक्त श्री एमबी ओझा ने जिलेवार राजस्व प्रकरणों की समीक्षा कर सम्बन्धितों को निर्देश दिये कि समय-सीमा में प्रकरणों का निराकरण कराया जाना सुनिश्चित करें। बैठक में उन्होंने सर्वप्रथम निर्वाचन सम्बन्धी समीक्षा की और जिला कलेक्टरों को निर्देश दिये कि वर्ष के अन्त में आम निर्वाचन होना है। अत: निर्वाचन से सम्बन्धित कार्यों को समय-सीमा में पूर्ण किया जाये। सभी निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देश अनुसार कार्य करना सुनिश्चित करें। उन्होंने बीएलओ की समय-समय पर बैठकें आयोजित कर उन्हें मतदाता सूची को अपडेट करने हेतु निर्देशित करने को कहा। डुप्लीकेट डाटा की जांच की कार्यवाही को समय पर पूर्ण किया जाये। मतदान केन्द्र भवनों का सत्यापन समय-सीमा में कर लिया जाये। इस कार्य में किसी भी प्रकार की कोताही न बरती जाये। पूर्व मतदान केन्द्र जो कि पुराने भवनों में स्थापित थे और अब कई स्थानों पर नये भवनों का निर्माण हो गया है, ऐसे जर्जर भवनों के स्थान पर नये भवनों में मतदान केन्द्र स्थापित किये जायें। संभागायुक्त श्री ओझा ने जिला कलेक्टरों को निर्देश दिये हैं कि गत विधानसभा आम निर्वाचन में नियुक्त किये गये पर्यवेक्षकों के द्वारा दिये गये दिशा-निर्देशों का अध्ययन कर लें, ताकि निर्वाचन के दौरान आसानी रहे। जिला कलेक्टरों को निर्देश दिये गये कि वे अपने-अपने जिले में होशियार एवं निर्वाचन काम के जानकार सेवकों को निर्वाचन के काम में लगायें।

संभागायुक्त श्री एमबी ओझा ने निर्वाचन के कार्य की समीक्षा के बाद राजस्व विभाग की समीक्षा जिलेवार की। उन्होंने भू-अर्जन, मुख्यमंत्री हेल्पलाइन के प्रकरण, आवासीय पट्टों के वितरण कार्य, दखलरहित भूमि उपबंध अधिनियम, भू-अधिकार पत्र, राजस्व वसूली, पंचायत उपकर, शाला भवन उपकर, अर्थदण्ड, नजूल भूमि पर प्रब्याजी, परिवर्तित भूमि पर प्रब्याजी, राजस्व विभाग के अन्तर्गत अन्य समस्त मद के राजस्व वसूली, तकाबी, बैंक आरआरसी का निष्पादन आदि की जिलेवार समीक्षा की। संभागायुक्त ने जिला कलेक्टरों को निर्देश दिये हैं कि राजस्व के लम्बित प्रकरणों का निराकरण समय-सीमा में किया जाये और राजस्व वसूली पर सर्वाधिक ध्यान दिया जाये। बैठक में लोक सेवा गारंटी के अन्तर्गत लम्बित प्रकरणों का निराकरण, न्यायालयों में चल रहे प्रकरणों की भी समीक्षा की गई। संभागायुक्त ने भू-अभिलेख प्रकरणों की समीक्षा की। बैठक में अपर आयुक्त श्री पीएल कतरोलिया, उज्जैन जिला कलेक्टर श्री मनीष सिंह सहित उज्जैन संभाग के अन्य जिलों के जिला कलेक्टर, उपायुक्त श्री पवन जैन, भू-अभिलेख के उपायुक्त श्री आरपी गेहलोत उपस्थित थे।   (फोटो संलग्न)

क्रमांक 1653                                                             एसके उज्जैनिया/जोशी