September 21, 2018

Latest News

“सफलता की कहानी” रक्षा बन्धन से पहले शिवराज भैया ने बहुत बड़ी सौगात दी –ताराबाई, मुख्यमंत्री संबल योजना के तहत ताराबाई का 1 लाख रूपये से अधिक का बिजली बिल माफ हुआ

उज्जैन 13 जुलाई। रक्षाबन्धन से ठीक पहले शिवराज भैया ने बहुत बड़ी सौगात दी है। हमें कभी लगा ही नहीं कि वे प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं। हमारे लिये तो वे पहले भाई हैं उसके बाद प्रदेश के मुखिया। एक ऐसे भाई, जिन्होंने हम जैसी बहनों के प्रति अपना फर्ज बखूबी निभाया है। ये कहना था 45 वर्षीय दानीगेट निवासी ताराबाई का।

ताराबाई फॉल-पिको का काम करती हैं। घर में चार लड़कियां और एक लड़का है। दो लड़कियों की शादी कर दी है, दो लड़कियां अभी पढ़ाई कर रही हैं। लड़का कामकाज में ताराबाई का हाथ बंटाता है। हाल ही में मुख्यमंत्री संबल योजना के अन्तर्गत ताराबाई का एक लाख 96 हजार रूपये का बिजली का बिल बिना किसी पैनल्टी के माफ हुआ है। ताराबाई ने बताया कि जबसे उन्होंने होश संभाला है, तब से लेकर अभी तक उन्होंने ऐसी कोई शासन की योजना न तो देखी, न सुनी थी। सन 2016 के बाद से लगातार उनका बिल बढ़ता जा रहा था। पिछले महीने तक उसकी राशि एक लाख 96 हजार रूपये तक हो गई थी।

ऐसा इसलिये हुआ था क्योंकि हर माह जितना बिल आता था उतनी राशि जमा करने के लिये उनके पास पर्याप्त रूपयों की आमदनी नहीं हो पाती थी। अपना पेट काट-काटकर ताराबाई प्रतिमाह दो से तीन हजार रूपये ही भर पाती थीं। फिर अगले महीने के बिल में पिछला बकाया जुड़कर आ जाता था। उनका परिवार इस वजह से रात में चैन की नींद नहीं सो पाता था। जब बच्चों की परीक्षा सिर पर होती थी तो ताराबाई घर में राशन के सामान के साथ अलग से मोमबत्ती लाकर रखती थीं, क्योंकि पता नहीं होता था कि कब घर का कनेक्शन कट जाये। बिजली बिल भरने के लिये उन्होंने लोन लेने का निर्णय कर लिया था लेकिन वह भी आसानी से मिल नहीं रहा था, इसलिये ताराबाई ने बाजार से 10 प्रतिशत ब्याज पर कर्जा लेने का सोच लिया था।

एक तो बिजली का बिल, ऊपर से बाकी दो बेटियों की पढ़ाई, पालन-पोषण और फिर शादी की फिक्र ओर सबसे ऊपर घर चलाने की जिम्मेदारी, यह सब कैसे होगा, यह सब सोचकर ताराबाई सिहर उठती थी, लेकिन जब उन्होंने मुख्यमंत्री संबल योजना के बारे सुना तो उनकी जान में जान आई। पिछले महीने ही उन्होंने मजदूर डायरी बनवाई और उसके बाद बिल माफी के लिये आवेदन दिया था। हाल ही में आयोजित प्रमाण-पत्र वितरण कार्यक्रम में ताराबाई को मंच पर से प्रमाण-पत्र दिया गया।

बिल माफी के बाद ताराबाई बहुत खुश हैं और सबसे अच्छी बात यह है कि अब से उनके घर में प्रतिमाह 200 रूपये का बिल ही आयेगा। पहले 200 रूपये से 10 गुना अधिक राशि का बिल उन्हें भरना पड़ता था, लेकिन मुख्यमंत्री सरल बिल योजना से उन्हें इस समस्या से भी निजात मिली है। पहले घर में काम आने वाली जरूरी चीजों को भी खरीदने से पहले 10 बार सोचना पड़ता था। कई बार ताराबाई बच्चों की फीस भी नहीं भर पाती थी, लेकिन अब उनका परिवार निश्चिंत होकर जीवन यापन कर रहा है। एक बहन के लिये भाई द्वारा दिया गया इससे अच्छा तोहफा और क्या हो सकता है। ताराबाई अपने आस-पड़ौस की दूसरी उनके जैसी महिलाओं को भी इस योजना के बारे में बताती हैं और लाभ लेने के लिये प्रेरित करती हैं।                                        (फोटो संलग्न)

क्रमांक 2023                                                                                                                 अनिकेत शर्मा/जोशी