August 16, 2018

Latest News

उज्जैन में गुणवत्तापूर्वक विद्युत प्रणाली का सुदृढ़ीकरण,उपभोक्ताओं को गुणवत्तापूर्वक विद्युत प्रदाय हमारा प्रमुख उद्देश्य –ऊर्जा मंत्री श्री जैन,मंत्री श्री जैन ने एकीकृत ऊर्जा विकास योजना का शुभारम्भ किया,950 हितग्राहियों को बिल माफी के प्रमाण-पत्र वितरित,मुख्यमंत्री संबल योजना में आवेदन की कोई अन्तिम तिथि नहीं होगी

उज्जैन 25 जुलाई। प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन ने बुधवार को मक्सी रोड पंवासा के रघुनन्दन गार्डन में एकीकृत ऊर्जा विकास योजना (आईपीडीएस) का शुभारम्भ किया। इसके अलावा स्थानीय 950 पात्र हितग्राहियों के बिल माफी के प्रमाण-पत्र भी वितरित किये गये। कार्यक्रम में ऊर्जा विभाग के ईई श्री केतन रायपुरिया, उज्जैन दक्षिण के विधायक डॉ.मोहन यादव, महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, श्री ओम जैन, श्री इकबालसिंह गांधी एवं अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद थे। अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का विधिवत शुभारम्भ किया गया।

स्थानीय निवासियों ने कहा कि मुख्यमंत्री संबल योजना शासन की सबसे बड़ी और सबसे महत्वाकांक्षी योजना हमारे लिये साबित हुई है। जिन हितग्राहियों को मंच से प्रमाण-पत्र वितरित किये गये, उन सभी ने एक स्वर में मध्य प्रदेश शासन का बिल माफी और सरल बिल योजना के लिये धन्यवाद दिया। इसके साथ ही एकीकृत विकास योजना के अन्तर्गत विद्युत प्रणाली के सुदृढ़ किये जाने पर भी हर्ष व्यक्त किया।

स्वागत भाषण एसई श्री संजय जैन ने दिया। उन्होंने कहा कि विद्युत प्रणाली का सुदृढ़ीकरण आईपीडीएस योजना के माध्यम से किया जायेगा। श्री जैन ने मुख्यमंत्री संबल योजना और सरल बिल योजना के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि संबल योजना के अन्तर्गत रजिस्ट्रेशन कैम्प भी लगाये गये हैं। जिन लोगों ने इस योजना का लाभ ले लिया है वे अपने आसपास के पात्र हितग्राहियों को भी इस योजना का लाभ लेने के लिये प्रेरित करें।

ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन ने इस अवसर पर कहा कि उपभोक्ताओं को गुणवत्तापूर्वक विद्युत प्रदाय करना हमारा प्रमुख उद्देश्य है और इसके लिये शासन प्रतिबद्ध है। गरीबों को चिन्तामुक्त करने और उन्हें सुकून की नींद देने के उद्देश्य से शासन द्वारा संबल योजना शुरू की गई है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की यह मंशा थी कि प्रदेश में गरीब वर्ग के लोगों को 200 रूपये फ्लेटरेट पर बिजली उपलब्ध करवाई जाये, इसीलिये सरल बिल योजना का शुभारम्भ किया गया और आज केन्द्र शासन की एकीकृत ऊर्जा विकास योजना का शुभारम्भ किया जा रहा है। इसकी कुल लागत 957.02 लाख रूपये है। इसका प्रमुख उद्देश्य उज्जैन शहर में वार्ड-40 और 41, जो कि पूर्व में शंकरपुर, पंवासा, नीमनवासा, माधोपुर और शेष उज्जैन शहर के क्षेत्रों के लिये विद्युत प्रणाली का सुगृढ़ीकरण करना है।

इस योजना के माध्यम से उपभोक्ताओं को गुणवत्तापूर्वक विद्युत प्रदाय की जायेगी और विद्युत कंपनी एवं नेटवर्क में होने वाली तकनीकी हानियों को कम करने का प्रयास किया जायेगा। इस योजना के अन्तर्गत मुख्य रूप से 11 केव्ही की नवीन लाइन और वर्तमान लाइन का विभाजन किया जायेगा, जो कि कुल 17 किलो मीटर है। पुराने झुके हुए और खराब लगभग 700 पोल को बदला जायेगा। 100 केव्ही के अतिरिक्त 15 नग वितरण ट्रांसफार्मर और 200 केव्ही के अतिरिक्त 2 नग वितरण ट्रांसफार्मर लगाये जायेंगे। वर्तमान में 5 ट्रांसफार्मर्स की क्षमता में वृद्धि की जायेगी। पुराने खराब तारों को बदलकर नवीन 83 किलो मीटर लम्बी केबल लाइन लगाने का कार्य और ऐसे क्षेत्र जहां पर लाइन नहीं है, वहां 25 किलो मीटर की नवीन लाइन लगाई जायेगी। इसके अलावा बन्द एवं खराब मीटरों की जगह नये 6 हजार मीटर लगाने का प्रावधान भी इस योजना के अन्तर्गत सम्मिलित किया गया है।

मंत्री श्री जैन ने कहा कि मुख्यमंत्री जनकल्याण संबल योजना और सरल बिल योजना के अन्तर्गत आज सरल बिजली बिल के 600 उपभोक्ताओं और माफी योजना के अन्तर्गत 950 उपभोक्ताओं के लगभग 1.15 करोड़ रूपये बिजली के बिल माफ किये जाकर उन्हें प्रमाण-पत्र वितरित किये जायेंगे। उल्लेखनीय है कि पूरे प्रदेश में अभी तक 2 हजार करोड़ रूपये के बिजली के बिल संबल योजना के अन्तर्गत माफ किये गये हैं। ऊर्जा विभाग का लक्ष्य 4 हजार करोड़ रूपये की राशि माफ करने का है। उज्जैन शहर में समय-समय पर 392 कैम्प लगाये गये हैं।

शासन द्वारा गरीबों को उनका अधिकार हर कीमत पर दिलवाया जायेगा। प्रदेश के मुख्यमंत्री निरन्तर इस ओर प्रयास कर रहे हैं। बेटियों की शिक्षा के साथ शादी की चिन्ता भी उन्होंने की है। देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू की गई उज्ज्वला योजना के माध्यम से पूरे देश में 6 करोड़ से भी ज्यादा महिलाओं को गैस कनेक्शन दिये गये। प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के अन्तर्गत पक्के मकान निर्माण हेतु 1 लाख 50 हजार रूपये की राशि शासन द्वारा दी जाती है।

मंत्री श्री जैन ने मंच से अपील की कि अधिक से अधिक पात्र हितग्राही मुख्यमंत्री संबल योजना के अन्तर्गत लाभान्वित हों। “बिजली बिल माफ करवाने के लिये यदि कोई भी आपसे रिश्वत मांगे तो उसे बिलकुल न दें, उसकी शिकायत वरिष्ठ अधिकारियों अथवा स्वयं मुझसे करें।” यदि कोई व्यक्ति ऐसा करता है तो उसके विरूद्ध कड़ी से कड़ी कार्यवाही शासन द्वारा की जायेगी। यह योजना सतत चलती रहेगी। इस योजना के अन्तर्गत पंजीयन की कोई अन्तिम तिथि निर्धारित नहीं होगी। सरल बिल योजना के अन्तर्गत 200 रूपये प्रतिमाह का बिल अवश्य भरें और बिजली का दुरूपयोग कतई न करें।

विधायक डॉ.मोहन यादव ने कहा कि हमारे प्रदेश में चौबीस घंटे निरन्तर बिना रूके विद्युत सप्लाय की जा रही है। हमारा प्रदेश पूरे देश में विद्युत सप्लाय में एक आदर्श राज्य बन गया है। पहले कई लोगों को शिकायत होती थी कि उनके क्षेत्र में बिजली प्रदाय की व्यवस्था सुदृढ़ और उचित तरीके से की जाये, ताकि करंट लगने या बारिश में होने वाली अन्य दुर्घटनाओं पर लगाम लग सके। आज हमें यह बताते हुए अत्यन्त हर्ष हो रहा है कि एकीकृत ऊर्जा विकास योजना के अन्तर्गत इसे पूर्ण रूप से ठीक कर लिया गया है। इसके अलावा 11 करोड़ रूपये के विकास कार्यों का भूमिपूजन किया जायेगा। अब घरों में निरन्तर विद्युत सप्लाय की जायेगी। अधिक से अधिक पात्र हितग्राही इसका लाभ लें और अपने बच्चों को बिजली की रोशनी में अच्छे से पढ़ायें। विधायक ने अपनी ओर से सभी को शुभकामनाएं दीं।

श्री इकबालसिंह गांधी ने कहा कि हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री प्रदेश की जनता के विकास के लिये निरन्तर कार्य कर रहे हैं। प्रदेश के गरीब तबके के लोगों के जीवन स्तर को उठाने के लिये सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। जन्म से लेकर मृत्यु तक की योजनाओं का लाभ जनता को मिल रहा है।

श्री ओम जैन ने कहा कि मुख्यमंत्री संबल योजना एक अनूठी योजना है और यह सामाजिक सरोकार की योजना है। इसके पश्चात अतिथियों द्वारा मंच से प्रतीकात्मक रूप से कुछ हितग्राहियों को प्रमाण-पत्र वितरित किये गये। इसमें पंवासा निवासी प्रमोदसिंह पिता छोटूसिंह को 53 हजार 892, किशोर पिता बाबूलाल को 90 हजार 91, गोपाल पिता रामसिंह को 83 हजार 229, सजनबाई पति बाबूलाल को 46 हजार 216, रमेश पिता देवजी को 73 हजार 235, सुरेश पिता प्यारेलाल को 61 हजार 354, नीमनवासा निवासी विक्रमसिंह पिता रामप्रसाद को 83 हजार 974 और लक्ष्मीनारायण पिता मोतीलाल को 54 हजार 121 रूपये के बिल माफी के प्रमाण-पत्र वितरित किये गये।(फोटो संलग्न)

क्रमांक 2135                                                              अनिकेत शर्मा/जोशी