October 16, 2018

Latest News

उज्जैन-इन्दौर रोड को नो-एक्सीडेंट रोड बनाया जाये, सड़क सुरक्षा समिति की बैठक सम्पन्न

उज्जैन 04 अगस्त। जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक सिंहस्थ मेला कार्यालय में सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में सांसद ने क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी एवं मप्र राज्य सड़क परिवहन निगम को निर्देश दिये कि उज्जैन-इन्दौर रोड को नो-एक्सीडेंट रोड बनाया जाये। इसके लिये जो भी उपाय किये जा सकते हैं, किये जायें। उज्जैन-इन्दौर रोड में अनावश्यक रूप से तोड़े गये रोड डिवाइडर को दुरूस्त करने के निर्देश देते हुए कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने सड़क परिवहन निगम के अधिकारी से कहा है कि वे डिवाइडरों को तोड़ने वालों के विरूद्ध सख्ती से पेश आयें। बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री सचिन अतुलकर, नगर निगम आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल, श्री मदन सांखला, श्री महेन्द्र गादिया, एडीएम श्री जीएस डाबर, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संदीप जीआर, यूडीए सीईओ श्री अभिषेक दुवे एवं समिति के सदस्य मौजूद थे। समाप्ति पूर्व बैठक में विशेष रूप से ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन भी शामिल हुए।

बैठक में सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय ने कहा कि उज्जैन शहर में आने वाले लोग इसकी सुन्दरता से प्रभावित होते हैं, किन्तु यहां की बिगड़ी हुई ट्रैफिक व्यवस्था से निराश हो जाते हैं। खासकर ऑटो रिक्शा वालों का व्यवहार उन्हें तकलीफ देता है। सांसद ने इस व्यवस्था में सुधार पर बल देते हुए कहा कि ऑटो रिक्शा ड्राइवर अनिवार्य रूप से वर्दी पहनें और नेमप्लेट लगायें। उन्होंने शहर के विभिन्न स्थानों पर प्रीपेड बूथ व्यवस्थित संचालित करने के निर्देश दिये। बैठक में स्कूल बसों के फिटनेस की जांच की चर्चा की गई तथा आरटीओ को निर्देशित किया गया कि सभी स्कूल बसों की की जांच की जाये। स्कूल बसों के ड्राइवर व कंडेक्टर्स का प्रतिवर्ष चारित्रिक सत्यापन किया जाये। बैठक में सदस्य श्री मदन सांखला ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में चल रही स्कूल बसों की स्थिति अत्यधिक खराब है। अधिकांश स्कूलों में खटारा बसें संचालित की जा रही हैं, जिससे बच्चों का जीवन खतरे में पड़ जाता है। बैठक में निर्णय लिया गया कि सीएनजी ऑटो की प्रति 3 वर्ष में की जाने वाली जांच अनिवार्य रूप से करवाई जाये। बैठक में पुलिस अधीक्षक ने कहा कि स्कूल बसों के ड्राइवर-कंडक्टर के चारित्रिक सत्यापन की जिम्मेदारी स्कूल संचालकों पर ही डाली जाये।

बैठक में जानकारी दी गई कि शहर में वर्तमान में 2200 ऑटो रिक्शाओं को परमिट दिया गया है। इसी तरह उज्जैन शहर में लगभग 500 मैजिक चल रही हैं। बैठक में मैजिक पर सम्बन्धित रूट के डिटेल लिखने के निर्देश दिये गये। सदस्य श्री महेन्द्र गादिया ने मांग की कि देवासगेट से लेकर चामुण्डा माता एवं रेलवे स्टेशन के बीच यात्री बसों द्वारा घंटों खड़े रहकर सवारियां बैठाने से सड़क पर होने वाले ट्रैफिक जाम को दुरूस्त किया जाये।

बैठक में विशेष रूप से मौजूद मंत्री श्री पारस जैन ने कहा कि देवासगेट एवं चामुण्डा माता के बीच बसों को रोककर सवारियां बैठाने वाले बसचालकों पर जुर्माना किया जाये। उन्होंने ट्रैफिक सिग्नल को ठीक करने की आवश्यकता बताई। मंत्री श्री जैन ने कहा कि आवश्यकता हो तो यातायात बल के सभी काँस्टेबल्स का एकमुश्त स्थानान्तरण कर नये व्यक्तियों को इस काम में लगाया जाये।

(फोटो संलग्न- सड़क सुरक्षा समिति की बैठक लेते हुए सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय)

क्रमांक 2275                                                              एचएस शर्मा/जोशी