October 16, 2018

Latest News

निर्वाचन कार्य में सभी अधिकारी ‘फ्री एण्ड फेयर’ रहें, कलेक्टर ने निडर होकर काम करने की हिदायत दी

उज्जैन 12 अगस्त। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री मनीष सिंह ने जिले के सभी एसडीएम, तहसीलदार एवं नायब तहसीलदार को निर्देश दिये हैं कि उन्हें निर्वाचन कार्य में मजिस्ट्रेट की हैसियत से कार्य करना है, इसलिये सभी अधिकारी ‘फ्री एण्ड फेयर’ रहें। उन्होंने कहा कि अधिकारी किसी भी तरह का पक्षपात नहीं करें। कलेक्टर ने सभी मजिस्ट्रेट्स को निर्वाचन कार्य के दौरान धारा 107, 116 एवं 122 के तहत शरारती तत्वों के विरूद्ध निडर होकर कार्यवाही करने को कहा है। विधानसभा निर्वाचन के दौरान कानून व्यवस्था बनाये रखने एवं निर्विघ्न निर्वाचन के लिये कलेक्टर श्री मनीष सिंह एवं पुलिस अधीक्षक श्री सचिन अतुलकर ने आज मेला कार्यालय में संयुक्त रूप से प्रशासनिक अधिकारी एवं पुलिस अधिकारियों की बैठक लेकर दिशा-निर्देश दिये। बैठक में नगर निगम आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल, एडीएम श्री जीएस डाबर, अपर कलेक्टर श्री दीपक आर्य, श्री बीबीएस तोमर, एएसपी श्री विवेक सोनकर, श्री नीरज पाण्डेय, सुश्री वर्षा भूरिया, उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती शैली कनाश, जिले के सभी एसडीएम, तहसीलदार एवं नायब तहसीलदार मौजूद थे।
बैठक में कलेक्टर ने निर्देश दिये कि आगामी एक सप्ताह में जिले में सभी निर्वाचन क्षेत्रों में सेक्टर अधिकारी की नियुक्ति कर दी जाये। उन्होंने साथ ही सभी एसडीएम से कहा है कि वल्नरेबल क्षेत्र की मेपिंग करते समय सावधानीपूर्वक कार्य करें और क्रिटिकल मतदान केन्द्रों का चिन्हांकन भी अभी से कर लिया जाये। कलेक्टर ने कहा है कि मतदाता सूचियों के शुद्धिकरण का कार्य लगभग पूर्ण हो चुका है। जिले में आज की स्थिति में 13 लाख 67 हजार मतदाता हैं। कलेक्टर ने निर्देश दिये हैं कि छूटे हुए दिव्यांगों एवं महिलाओं के शत-प्रतिशत नाम मतदाता सूची में शामिल करने के लिये विशेष अभियान चलाया जाये।
जिले में कुल 1773 मतदान केन्द्र स्थापित किये गये हैं। कलेक्टर ने इन सभी मतदान केन्द्रों के निरीक्षण करने के निर्देश रिटर्निंग अधिकारियों को दिये हैं। उन्होंने कहा है कि सभी मतदान केन्द्रों में मूलभूत सुविधाएं जिनमें शौचालय, पानी, बिजली शामिल हैं, अनिवार्य रूप से होना चाहिये। मतदान केन्द्रों में आवश्यक सुधार के लिये ग्रामीण यांत्रिकी सेवा एवं जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों का सहयोग लेने के लिये कहा गया है। कलेक्टर ने कहा है कि नागदा खाचरौद में जेण्डर रेशो पर विशेष ध्यान दिया जाये एवं छूटी हुई महिलाओं को मतदाता सूची में शामिल किया जाये।
कलेक्टर ने सभी विधानसभा क्षेत्र के लिये रूटमेप तैयार करने में गूगल की मदद लेने के निर्देश दिये हैं। साथ ही उन्होंने कहा है कि ऐसे व्यक्तियों का चिन्हांकन किया जाये, जो निर्वाचन के समय गड़बड़ी करने के आदी हों। कलेक्टर ने धारा 122 के तहत ऐसे लोगों को जेल भिजवाने के निर्देश दिये हैं। साथ ही उन्होंने कहा है कि ऐसे लोगों के शस्त्र लायसेंस निरस्त किये जायें, जिन्होंने लायसेंसी शस्त्र से कोई अपराध किया है।
बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री सचिन अतुलकर ने कहा कि निर्वाचन कार्य को निर्विघ्न सम्पन्न कराने एवं इस अवधि में कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिये पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारियों का संयुक्त रूप से समन्वित होकर कार्य करना आवश्यक है। उन्होंने कहा है कि क्रिटिकल मतदान केन्द्रों के चिन्हांकन एवं वल्नरेबल क्षेत्र का निर्धारण करने के लिये प्रत्येक अनुविभागीय स्तर पर एसडीएम एवं एसडीओपी मिलकर कार्य करें। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि स्थानीय निर्वाचन के समय गड़बड़ी करने वालों की सूची का अवलोकन भी किया जाये। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था बनाने के लिये प्रोएक्टिव होकर कार्यवाही की जाये। अच्छा कम्युनिकेशन प्लान तैयार करने, अधिकारियों को प्रशिक्षित करने एवं सीसीटीवी कैमरों के द्वारा मॉनीटरिंग करने की हिदायत भी पुलिस अधीक्षक द्वारा दी गई।
(फोटो संलग्न)
क्रमांक 2338 एचएस शर्मा/जोशी