September 21, 2018

Latest News

मंत्री श्री जैन ने मालवा माटी के सपूत अमर शहीद बलराम जोशी को श्रद्धांजली दी, शहीद सम्मान दिवस पर लोकमान्य तिलक विद्यालय में कार्यक्रम आयोजित

उज्जैन 14 अगस्त। मंगलवार को पूरे प्रदेश में प्रदेश के बहादुर शहीदों के सम्मान में शहीद सम्मान दिवस मनाया गया। इसी तारतम्य में उज्जैन में भी जनप्रतिनिधियों और वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा शहीदों का सम्मान किया गया। प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन ने लोकमान्य तिलक उमावि में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उज्जैन के वीर सपूत अमर शहीद बलराम जोशी को श्रद्धांजली दी।
मंत्री श्री जैन ने इस अवसर पर कहा कि शहीद बलराम जोशी ने मालव माटी को पूरे देश के समक्ष गौरवान्वित किया है। उल्लेखनीय है कि शहीद बलराम जोशी ने शहर के लोकमान्य तिलक विद्यालय में सन 1990 से 1994 तक शिक्षा ग्रहण की थी। बाद में एनसीसी की ट्रेनिंग के पश्चात वे भारतीय सेना में भर्ती हुए थे। सन 2000 में दुश्मन के हमले के दौरान बलराम जोशी को शहादत मिली थी। मंत्री श्री जैन ने कहा कि ऐसे वीर सपूत पर हम सभी को गर्व है। उन्होंने उज्जैन का नाम पूरे देश में रोशन किया है। हमारे वीर सपूतों के कारण ही हम चैन की नींद सोते हैं। उनका यह कर्ज हम कभी भी चुका नहीं सकते। इसीलिये प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 14 अगस्त को राज्य के बहादुर निवासियों द्वारा सेना, अर्द्धसेना तथा पुलिस में सेवारत रहते हुए युद्ध, सैनिक कार्यवाही, आन्तरिक सुरक्षा, नक्सलवाद तथा आतंकवादी गतिविधियों के दौरान अपने प्राणों को न्यौछावर करने पर उनकी शहादत का सम्मान करने का निर्णय लिया गया है।
पूरे प्रदेश में आज शहीद सम्मान दिवस मनाया जा रहा है। मंत्री श्री जैन ने शहीद बलराम जोशी का स्मरण करते हुए बताया कि जब उनका पार्थिव शरीर उज्जैन पहुंचा था, तब सारे शहर की जनता उनके अन्तिम दर्शन के लिये उमड़ गई थी। वह दृश्य अत्यन्त भावुक कर देने वाला था। शहीद बलराम जोशी अपने विद्यार्थी जीवन के दौरान भी पूर्ण निष्ठावान और अनुशासनप्रिय थे। एक बार उनके पैर में कांच का टुकड़ा लग जाने से बहुत रक्तस्त्राव हुआ था, परन्तु फिर भी वे रोज की तरह विद्यालय पहुंचे थे। उन्होंने उस दिन अवकाश नहीं लिया।
हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी भी अपना जन्मदिन सैनिकों के बीच मनाते हैं। मंत्री श्री जैन ने लोकमान्य तिलक विद्यालय के बच्चों से कहा कि वे भी शिक्षा ग्रहण कर एक अच्छे नागरिक बनें और अपने प्रदेश व देश का नाम रोशन करें। शिक्षा के लिये मध्य प्रदेश शासन द्वारा सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं।
कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री किशोर खंडेलवाल ने की। इस अवसर पर श्री भरत व्यास, विद्यालय के प्राचार्य श्री अशोक कड़ेल, जिला शिक्षा अधिकारी श्री संजय गोयल, शहीद बलराम जोशी के पिता श्री राधेश्याम जोशी, बहनें सुश्री उर्मिला जोशी एवं साध्वी दुर्गा जोशी, विद्यालय का समस्त स्टाफ और छात्र-छात्राएं मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन विद्यालय के श्री अमित पंडित द्वारा किया गया। अतिथियों द्वारा शहीद बलराम जोशी के चित्र के समक्ष माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजली दी गई। इसके पश्चात ऊर्जा मंत्री श्री जैन ने शहीद के परिवारजनों का शाल और श्रीफल भेंटकर सम्मान किया।
विद्यालय के प्राचार्य श्री अशोक कड़ेल ने इस अवसर पर विद्यार्थियों से कहा कि वे अपने विद्यार्थी जीवन के दौरान ही देशभक्ति की भावना को जागृत करें और एक अच्छे नागरिक बनें। बलराम जोशी हमारे ही विद्यालय के पूर्व छात्र थे। उनके जीवन से सभी विद्यार्थी प्रेरणा लें।
जिला शिक्षा अधिकारी श्री संजय गोयल ने इस अवसर पर कहा कि राज्य शासन द्वारा शहीदों के सम्मान में यह कार्यक्रम इसलिये आयोजित किया गया है कि उनकी शौर्य गाथा के बारे में नई पीढ़ी को बताया जाये। इससे आने वाली पीढ़ी में भी राष्ट्रप्रेम और शहीदों के प्रति सम्मान की भावना में वृद्धि हो। शहीद बलराम जोशी ने देश के लिये अपने प्राण न्यौछावर कर एक मिसाल कायम की है।
बलराम जोशी की बहन साध्वी आनन्दमयी दुर्गा जोशी ने शासन द्वारा शहीदों का सम्मान किये जाने और उनकी याद में शहीद दिवस मनाये जाने पर आभार व्यक्त किया। अपने भाई को याद करते हुए उन्होंने बचपन का एक किस्सा विद्यार्थियों के समक्ष बताया कि कैसे वे प्रतिदिन विद्यालय जाने के लिये समय पर तैयार होते थे। जब वे शहीद हुए तब 15 अगस्त के दिन ही रक्षाबन्धन का त्यौहार भी था। उन्हें पता था कि इस बार वे अपने भाई की कलाई पर राखी नहीं बांध सकेंगी, लेकिन इस बात के लिये उन्हें जरा सा भी अफसोस नहीं था, बल्कि कई गुना ज्यादा खुशी और गर्व था कि उनके भाई ने देश के लिये अपनी जान गंवा दी। सभी विद्यार्थी इसी तरह अपने जीवन में अनुशासन को जगह दें और निष्ठापूर्वक विद्याध्ययन करें। (फोटो संलग्न)
क्रमांक 2357 अनिकेत शर्मा/जोशी