October 21, 2018

Latest News

28 लाख से अधिक खर्च होने पर अर्हता समाप्त हो जाएगी, निर्वाचन व्यय के सम्बन्ध में कलेक्टर की अध्यक्षता में बैठक-सह-प्रशिक्षण सम्पन्न, मतदाता को लुभाना पड़ेगा महंगा

उज्जैन 06 अक्टूबर। यदि किसी प्रत्याशी का निर्वाचन व्यय 28 लाख रूपये से अधिक होता है तो उसकी निर्वाचन अर्हता समाप्त हो जाएगी। निर्वाचन आयोग द्वारा विधानसभा निर्वाचन के लिये प्रत्याशी के खर्च की अधिकतम सीमा 28 लाख रूपये निर्धारित की गई है।
कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री मनीष सिंह ने शनिवार को बृहस्पति भवन में निर्वाचन व्यय सम्बन्धी बैठक-सह-प्रशिक्षण में यह जानकारी दी। बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री सचिन अतुलकर, सीईओ जिला पंचायत श्री संदीप जीआर, अपर कलेक्टर श्री दीपक आर्य, निर्वाचन व्यय नोडल अधिकारी श्री जेएस भदौरिया, सभी आरओ, एआरओ तथा सभी सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।
कलेक्टर ने कहा कि चुनाव अभ्यर्थी विधिवत अनुमति प्राप्त कर अपना निर्वाचन प्रचार-प्रसार करें तथा उस पर किये गये खर्च का प्रतिदिन ब्यौरा आरओ को दें। इसी के साथ आरओ स्तर पर एक शैडो रजिस्टर भी तैयार किया जाएगा, जिसमें प्रत्येक प्रत्याशी के खर्च का ब्यौरा दर्ज किया जाएगा।
अवैध खर्च करने पर निर्वाचन व्यय में जोड़ने के साथ ही एफआईआर भी
पुलिस अधीक्षक श्री सचिन अतुलकर ने बताया कि किसी भी दल या प्रत्याशी द्वारा यदि मतदाता को रिश्वत देना, शराब, साड़ी या अन्य सामान वितरित करना, अवैध रूप से परिवहन करना, भोज देना अथवा मतदाता को लुभाने के लिये कोई व्यय पाया जाता है तो यह खर्च सम्बन्धित प्रत्याशी के निर्वाचन व्यय में तो जुड़ेगा ही, साथ ही सम्बन्धित के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। (फोटो संलग्न)
क्रमांक 2785 पंकज मित्तल/जोशी