May 24, 2018

Latest News

सहकारी बैंकों की भारत की अर्थव्यवस्था में अहम भूमिका, किसानों को सहकारिता के क्षेत्र में रूचि लेना चाहिये –केन्द्रीय मंत्री श्री गेहलोत, 98वां सहकारी सम्मेलन व सम्मान समारोह सम्पन्न

 

उज्जैन 20 सितम्बर। भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री थावरचन्द गेहलोत के मुख्य आतिथ्य में जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक मर्यादित उज्जैन का सहकारी सम्मेलन एवं सम्मान समारोह भरतपुरी स्थित बैंक परिसर में सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री श्री गेहलोत ने अपने उद्बोधन में कहा कि सहकारी बैंकों की भारत की अर्थव्यवस्था में निर्णायक भूमिका रहती है। इसलिये अधिक से अधिक किसान सहकारिता के क्षेत्र में रूचि लेकर जिला सहकारी केन्द्रीय बैंकों को मजबूती प्रदान करने में अपनी भूमिका अदा करें। सहकारी बैंक सुदृढ़ होंगी तो हमारा विकास भी सुदृढ़ होगा। सहकारी बैंकों का गठन हमारे देश में 1918 में हुआ था। आज केन्द्रीय सहकारी बैंकों को 98 साल पूरे हो गये हैं और 99वें साल में प्रवेश किया है।

केन्द्रीय मंत्री श्री थावरचन्द गेहलोत ने कहा कि सहकारिता के क्षेत्र में प्रत्येक किसान को रूचि लेना चाहिये। सहकारी बैंकों को आर्थिक दृष्टि से मजबूत किया जाना चाहिये। प्रदेश में सहकारी बैंक वर्तमान में लाभ में चल रही हैं। इसके लिये सहकारिता से जुड़े समस्त पदाधिकारी धन्यवाद के पात्र हैं। सहकारी बैंकों की पारदर्शिता के लिये राज्य सरकार ने सारे कामकाज कम्प्यूटराईज्ड कर दिये हैं। इससे सहकारी बैंकों के कामकाज में किसी प्रकार की गड़बड़ी न हो सकी है। राज्य सरकार ने इन बैंकों के माध्यम से जीरो बैलेंस पर किसानों को ऋण उपलब्ध कराने की व्यवस्था कर दी है, जिससे किसान आर्थिक दृष्टि से मजबूत हो सके। श्री गेहलोत ने कहा कि कृषि विज्ञान केन्द्रों को और बेहतर बनाने के उद्देश्य से नई-नई वैज्ञानिक पद्धतियां अपनाई जा रही हैं, ताकि किसानों के हित में और बेहतर कार्य किये जा सकें। देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने में हमारी सबकी महती भूमिका है।

श्री गेहलोत ने कहा कि सहकारिता के क्षेत्र में सहकारी बैंकें और सुदृढ़ हो रही हैं।  हमारी अर्थव्यवस्था में इन बैंकों की अहम भूमिका है। मध्य प्रदेश में कृषि विकास दर बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र एवं कर्नाटक प्रान्त में सहकारिता में बेहतर काम हो रहे हैं। इसी तर्ज पर मध्य प्रदेश सरकार भी कार्य कर रही है, ताकि सहकारिता के क्षेत्र में प्रगति हो और इसमें सबका सहयोग होने से ही हम सबका उद्धार होगा। केन्द्रीय मंत्री श्री गेहलोत ने सामाजिक एवं अधिकारिता मंत्रालय की विभिन्न योजनाओं का जिक्र करते हुए बड़े गर्व के साथ कहा कि विभाग ने दिव्यांगों को एकसाथ लाभान्वित करने में हाल ही में तीन विश्व रिकार्ड बनाये हैं। उन्होंने अपील की कि 5-6 साल से कम उम्र के दिव्यांग बच्चे, जो कि कम सुनते हों, बोलते नहीं हों, उनकी सूचना सामाजिक न्याय मंत्रालय को दी जाये, ताकि उनके भविष्य को सुधारने और संवारने में मदद की जा सके।

विधायक डॉ.मोहन यादव ने इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि सहकारी बैंकों के माध्यम से जिले की किसी भी एक विधानसभा का चयन कर शासन की योजनाओं का लाभ दिलाये जाने का प्रयास किया जाये। इसके लिये सहकारी बैंकों में अधिक से अधिक खाते खुलवाये जाकर उन्हें ऋण उपलब्ध कराने का प्रयास किया जाये। इस कार्य के लिये चाहे विधायक निधि ही क्यों न खर्च करना पड़े। आपने उदाहरण देते हुए कहा कि राज्य शासन की गोपाल योजना, सौर ऊर्जा योजना, गोबर गैस प्लांट आदि महत्वपूर्ण योजनाएं हैं, शासन द्वारा इन्हें अधिक से अधिक गांवों में लागू कर अधिक से अधिक लोगों को लाभान्वित कर सहकारी बैंकों को मजबूती प्रदान की जा सकी है।

विधायक श्री बहादुरसिंह चौहान ने भी अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि सहकारिता विभाग एक महत्वपूर्ण विभाग है। धीरे-धीरे अब यह विभाग तेज गति से आगे बढ़ रहा है। हमारे किसान प्रगति की ओर हैं। जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक श्री लालसिंह राणावत ने कहा कि निरन्तर सहकारिता विभाग प्रगति के पथ पर आगे बढ़ रहा है। इस क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन किया गया है। किसानों के हित में कई कार्य किये जा रहे हैं। राज्य सरकार नित-नये कदम उठाकर किसानों की प्रग‍ति के लिये कार्य कर रही है।

जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक श्री उदयसिंह पण्ड्या ने कहा कि सहकारिता के क्षेत्र में व्यक्ति पूर्ण ईमानदारी से काम करे, ताकि सहकारी बैंक प्रगति की ओर बढ़े और हम सबका विकास हो। समाज की सेवा पूर्ण ईमानदारी से की जाये, ताकि हम सबकी भलाई हो। सरकार की नीतियों, कार्यक्रमों, योजनाओं का समय पर क्रियान्वयन कर पात्र व्यक्तियों को लाभ दिलवाया जाये, ताकि हमारा समाज सुदृढ़ हो, आगे बढ़े।

जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के संचालक श्री राजपालसिंह सिसौदिया ने कहा कि सहकारी बैंक पहले से अब बेहतर स्थिति में हैं। उन्होंने बैंकों का प्रबंधन के बारे में विस्तृत जानकारी दी। सहकारी बैंक पूर्ण ईमानदारी के साथ कार्य कर रही है। इस अवसर पर पूर्व विधायक श्री पुरूषोत्तम विपट ने अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि विश्व में भारत ही ऐसा देश है, जहां देश को मां का दर्जा दिया गया है। उन्होंने कहा कि हमारी भारत माता स्वर्ग से भी महान है और इसका परम वैभव शिखर तक पहुंचाने में हम सब मिलजुल कर काम करें। इस अवसर पर श्री शिवा कोटवानी, श्री श्याम बंसल आदि ने भी अपने विचार प्रकट किये।

जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष श्री किशनसिंह भटोल ने कार्यक्रम के प्रारम्भ में अध्यक्षीय उद्बोधन देते हुए कहा कि 98वी वार्षिक साधारण सभा में सबके सक्रिय सहयोग एवं कुशल मार्गदर्शन में बैंक ने गौरवपूर्ण 98 वर्ष पूर्ण किये हैं। सामयिक सहयोग से बैंक ने उल्लेखनीय प्रगति की है। वर्ष 2015-16 का वार्षिक प्रगति विवरण प्रस्तुत करते हुए श्री भटोल ने प्रसन्नता के साथ अवगत कराया कि पूर्व वर्षों की तुलना में बैंक ने अपने कारोबार में आशातीत प्रगति की है। बैंक की अंशपूंजी में गत वर्ष की तुलना में 352.36 लाख की वृद्धि हुई है एवं इस वर्ष के दौरान बैंक द्वारा 123.53 लाख का लाभ अर्जित किया है, जो कि गर्व की बात है। श्री भटोल ने कहा कि बैंक द्वारा कृषकों के हितों को ध्यान में रखते हुए नाबार्ड योजना के अन्तर्गत समस्त सदस्यों को क्रेडिट कार्ड जारी करते हुए साख सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है। प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा कृषक सदस्यों को जीरो प्रतिशत ब्याज दर पर अल्पकालीन ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है। साथ ही मध्यावधि ऋण जैसे- पाइप लाइन, मोटर पम्प, सबमर्सिबल पम्प आदि के लिये सस्ती ब्याज दरों पर ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है।

अध्यक्ष श्री भटोल ने कहा कि इसी प्रकार दीर्घावधि ऋण योजना के अन्तर्गत आवास ऋण, व्यावसायिक यातायात योजना अन्तर्गत वाहन ऋण भी उपलब्ध कराया जा रहा है। बैंक से सम्बद्ध प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों द्वारा कृषकों को 75 प्रतिशत ऋण नगद व 25 प्रतिशत वस्तु के रूप में उपलब्ध कराया जा रहा है। ऋण सीमा पांच लाख रूपये तक की है, किन्तु ब्याज अनुदान तीन लाख तक ही दिया जायेगा। श्री भटोल ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत मौसम आधारित बीमा योजना बैंक से सम्बद्ध 172 संस्थाओं के माध्यम से लागू की गई है। खरीफ 2016 में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत सोयाबीन फसल के लिये जिले के 69 हजार 54 ऋणी कृषकों को दो अरब 53 करोड़ रूपये से अधिक की बीमा धन की प्रीमियम पांच करोड़ रूपये से अधिक की राशि अधिकृत बीमा कंपनी आईसीआईसीआई लोम्बार्ड को प्रेषित की गई है।

श्री भटोल ने कहा कि जन-धन योजना के अन्तर्गत प्रारम्भ की गई प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के माध्यम से 330 रूपये मात्र की वर्ष की किश्त पर सेविंग खाताधारियों का जिले में जीवन बीमा किया जा रहा है। मृत्यु होने की दशा में भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा सदस्य के नॉमिनी के खाते में दो लाख रूपये की राशि जमा की जायेगी। श्री भटोल ने कहा कि प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के अन्तर्गत मात्र 12 रूपये प्रतिवर्ष की प्रीमियम पर दुर्घटना बीमा भी जिले में किया जा रहा है। इसमें अधिकतम दो लाख रूपये तक का क्लेम न्यू इण्डिया इंश्योरेंस कंपनी द्वारा नॉमिनी के खाते में जमा किया जायेगा।

जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक मर्यादित उज्जैन के महाप्रबंधक एवं पदेन सचिव श्री डी.आर.सरोठिया ने 98वां वार्षिक प्रतिवेदन एवं लेखा विवरण प्रस्तुत किया। उन्होंने इस दौरान बैंकों की अंशपूंजी, कोष, अमानतें, ऋण ग्रहण विनियोजन, कार्यशील पूंजी, लाभ-हानि, नगद साख सीमा अग्रिम, मांग वसूली और शेष, सार्वजनिक वितरण प्रणाली, ग्रामीण बचत बैंक, सहकारी समितियों के गोदाम, फसल बीमा, किसान क्रेडिट कार्ड योजना, ऋण वितरण योजनाएं, किसान क्लब आदि की विस्तार से जानकारी दी। कार्यक्रम के प्रारम्भ में अतिथियों ने पं.दीनदयाल उपाध्याय के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। कार्यक्रम दो सत्रों में किया गया।

कार्यक्रम के प्रारम्भ में बैंक के अध्यक्ष श्री किशनसिंह भटोल आदि ने अतिथियों का पुष्पहारों से स्वागत किया। बैंक की ओर से श्री भटोल ने समस्त अतिथियों का शाल, श्रीफल व स्मृति चिन्ह एवं साफा बांधकर सम्मानित किया। शत-प्रतिशत वसूली करने वाले ग्राम लोहाना, खरसोदकला, बड़नगर, तराना, नरवर, इंगोरिया, खरसोदखुर्द, घिनौदा, कनासिया बैंक शाखाओं के शाखा प्रबंधकों को प्रशस्ति-पत्र एवं स्मृति चिन्ह भेंटकर अतिथियों के द्वारा सम्मानित किया गया। इसी प्रकार अमानत संग्रहण हेतु बैंक स्तर पर प्रथम श्रेणी में घोंसला शाखा, द्वितीय श्रेणी में नरवर शाखा एवं तृतीय श्रेणी में झारड़ा शाखा के शाखा प्रबंधकों को सम्मानित किया गया। इसी प्रकार एनपीए प्रबंधक हेतु उत्कृष्ट कार्य करने के लिये प्रथम श्रेणी में उन्हेल शाखा, द्वितीय श्रेणी में झारड़ा शाखा एवं तृतीय श्रेणी में बड़नगर शाखा के बैंक शाखा प्रबंधकों को सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर विधायक श्री सतीश मालवीय, श्री श्याम बंसल, श्री इकबालसिंह गांधी, उज्जैन विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री जगदीश अग्रवाल, नगर निगम अध्यक्ष श्री सोनू गेहलोत, पूर्व महापौर श्री रामेश्वर अखंड, पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री रामसिंह जादौन, श्री बंशीलाल गुर्जर, श्रम कल्याण मण्डल के अध्यक्ष श्री सुल्तानसिंह शेखावत, दुग्ध संघ के अध्यक्ष श्री महेन्द्रसिंह बना, पूर्व विधायक श्री ताराचन्द गोयल, केन्द्रीय सहकारी बैंक के उपाध्यक्ष श्री किशोरलाल मेहता, श्री लालसिंह भाटी, संचालकगण में सर्वश्री शंकरलाल आंजना, राजपालसिंह सिसौदिया, रमेशचन्द्र पण्ड्या, डॉ.भगवानसिंह पंवार, दिनेशकुमार परिहार, भारतसिंह सोलंकी, करणसिंह पटेल, भगवानदास बैरागी, देवेन्द्रसिंह डोडिया, रामबाबू पाटीदार तथा अन्य जनप्रतिनिधि, पदाधिकारी एवं पदेन संचालक एवं संभागीय शाखा प्रबंधक डॉ.रवि ठक्कर, पदेन संचालक एवं उपायुक्त सहकारिता डॉ.मनोज जायसवाल, संयुक्त आयुक्त सहकारिता उज्जैन संभाग श्री व्ही.पी.मारन, नाबार्ड के डीडीएम श्री दीपक कुमार घोरपड़े एवं सहकारी बैंकों के शाखा प्रबंधक आदि उपस्थित थे। आभार श्री किशोरीलाल मेहता ने प्रकट किया। कार्यक्रम के अन्त में हाल ही में उरी में हुए शहीदों एवं केन्द्रीय मंत्री श्री गेहलोत के परिवार में हुई दु:खद घटना पर दो मिनिट का मौन रखकर श्रद्धांजली दी।

-संतोष कुमार उज्जैनिया (मो.नं.-9425379653)                               (फोटो संलग्न)

क्रमांक 192-3040                                                             जोशी