February 20, 2018

Latest News

भिक्षावृत्ति रोकथाम अभियान में विभिन्न विभागों की भूमिका कलेक्टर ने स्पष्ट की

 

उज्जैन 22 सितम्बर। समेकित बाल संरक्षण योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिये कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने सम्बन्धित विभागों की भूमिका को स्पष्ट करते हुए दिशा-निर्देश जारी किये हैं। इस योजना में विधि विवादित, देखरेख तथा संरक्षण के जरूरतमन्द बच्चों को आश्रय तथा पोषण प्रदान किया जाता है। अनेक धार्मिक स्थलों, रेलवे स्टेशन, बसस्टाप, सार्वजनिक स्थल पर कई बच्चे भिक्षावृत्ति करते देखे जा सकते हैं। भिक्षावृत्ति की रोकथाम के लिये कार्य योजना तैयार की गई है। यह अभियान आगामी 10 अक्टूबर तक पूरे प्रदेश में संचालित किया जायेगा।

कलेक्टर द्वारा जारी की गई कार्य योजना में भिक्षावृत्ति रोकथाम अभियान के तहत पुलिस विभाग को सामान्य प्रशासन, सामाजिक न्याय, श्रम तथा महिला बाल विकास विभागों के साथ समन्वय करके भिक्षावृत्ति एवं बालश्रम की रोकथाम के लिये कार्यवाही करने, भिक्षावृत्ति करवाने वालों के विरूद्ध किशोर न्याय अधिनियम के अनुसार कार्यवाही करने, रेलवे पुलिस के माध्यम से रेलवे स्टेशन और परिक्षेत्र में रहवासी बच्चों का पुनर्वास करने, यातायात के संकेत चिन्हों पर भिक्षा न देने, भिक्षावृत्ति करना/करवाना अपराध है जैसे स्लोगन लिखवाने की कार्यवाही के निर्देश दिये गये हैं। पंचायत एवं सामाजिक न्याय विभाग भिक्षावृत्ति करने वाले परिवारों को परामर्श एवं रोजगार उन्मुख कार्यक्रम से जोड़ने के लिये कार्य योजना बनायेगा। नशेड़ी बच्चों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने, बच्चों को आवश्यक उपकरण उपलब्ध करवाने, शिक्षण-प्रशिक्षण, रोजगार व्यवस्था करेगा।

महिला एवं बाल विकास विभाग योजना का क्रियान्वयन, मॉनीटरिंग, विभागों के साथ समन्वय, प्रचार-प्रसार, फंड उपलब्ध करवाने एवं आवश्यक दिशा-निर्देश जारी करने की कार्यवाही करेगा। स्कूल शिक्षा विभाग को भिक्षावृत्ति करने वाले, कूड़ा बीनने वाले, विद्यालय त्यागी बच्चों का विद्यालयों में प्रवेश करवाने, योजनाओं का लाभ देने के लिये समग्र पोर्टल से जोड़ने, डाटाबेस तैयार करने तथा विद्यालय स्तर से सतत मॉनीटरिंग करने के निर्देश दिये गये हैं। नगरीय प्रशासन विभाग को कहा गया है कि वह भिक्षावृत्ति रोकथाम के लिये ऐसे बच्चों व परिवारों को विभागीय योजनाओं का लाभ दिलवायें, पेंशन योजनाओं के लाभार्थी परिवारों से भिक्षावृत्ति न करने सम्बन्धी अनुबंध-पत्र भरवाये। श्रम विभाग अभियान में बाल श्रमिकों के पुनर्वास, रोजगार उन्मुखी कार्यक्रम से जोड़ने हेतु योजना तथा भिक्षावृत्ति करने व कूड़ा बीनने वाले परिवारों के कुशल/अकुशल कारीगरों का डाटाकौशल प्राप्त कर उन्हें नियोजन उपलब्ध करायेगा।

कलेक्टर ने इस अभियान में स्वास्थ्य विभाग को स्वास्थ्य सुविधाएं, नियमित स्वास्थ्य परीक्षण, चिकित्सकीय सहायता और जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन करने, उद्योग विभाग को रोजगार एवं लघु उद्योग के लिये परामर्श उपलब्ध कराने, संसाधन उपलब्ध कराने की कार्यवाही हेतु निर्देशित किया है। इसी प्रकार जनसम्पर्क, पर्यटन, राजस्व, तकनीकी शिक्षा,

संरक्षण अधिकारी समेकित बाल संरक्षण योजना आदि को भी विभिन्न दायित्व सौंपे गये हैं। योजना में समेकित बाल संरक्षण से जुड़े सामाजिक कार्यकर्ताओं, परामर्शदाताओं तथा आउटरिच कार्यकर्ताओं की भूमिका भी स्पष्ट रूप से रेखांकित की गई है।

-शकील खान (मो.नं.-9826632452)

क्रमांक 217-3065 जोशी