August 17, 2018

Latest News

काम करोगे तो ही नौकरी सुरक्षित रहेगी, ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव ने अधिकारियों को बैठक में दी चेतावनी

उज्जैन 24 सितम्बर। आप लोगों को आम लोगों के जीवन में बेहतरी लाने के लिये नियुक्त किया गया है। अपने दायित्वों को गंभीरता के साथ पूरा करें। यदि काम करोगे, तो ही आपकी नौकरी सुरक्षित रहेगी। यह स्पष्ट चेतावनी अपर मुख्य सचिव ग्रामीण विकास विभाग श्री राधेश्याम जुलानिया ने शनिवार को उज्जैन में संभाग स्तरीय समीक्षा बैठक में अधिकारियों को दी। उन्होंने कहा कि आपका सौभाग्य है कि आप के पास वे अधिकार हैं, जिनसे आप आम लोगों के जीवन को सकारात्मक रूप से बदल सकते हैं। बैठक में संभागायुक्त डॉ.रवीन्द्र पस्तोर सहित जिलों के कलेक्टर, जिला पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग के अधिकारी तथा ग्रामीण विकास से जुड़े अधिकारी मौजूद थे।

अपर मुख्य सचिव ने मध्याह्न भोजन कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए निर्देश दिये कि कलेक्टर से लेकर विभागीय दायित्व को संभालने वाले अधिकारी समयबद्ध रूप से भोजन की गुणवत्ता का निरीक्षण करते रहें। दाल में पानी ही पानी रहे, एक लीटर दूध में 50 बच्चों के लिये भी खीर बनती है और 200 बच्चों के लिये भी एक लीटर में ही खीर बन जाये, यह बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। मध्याह्न भोजन में गुणवत्ता सुनिश्चित करना आपका उत्तरदायित्व है। स्कूलों में किचन शेड निर्माण की समीक्षा करते हुए उन्होंने निर्देश दिये कि जहां राशि निकाल ली गई है और निर्माण पूरा नहीं हुआ है, तो सम्बन्धित के विरूद्ध कार्यवाही की जाये, साथ ही राशि भी वसूली जाये। आगामी दीपावली तक अधूरे कार्य पूर्ण कर लिये जायें। मध्याह्न भोजन में यदि स्वयंसहायता समूह के नाम से कोई और व्यक्ति कार्य कर रहा है तो सख्त कार्यवाही की जाये, कलेक्टर एजेन्सी बदल दें।

अपर मुख्य सचिव ने संभागायुक्त को निर्देश दिये कि संभाग के ग्रामीण विकास कार्यों के लिये किस प्रकार का सेटअप उपयुक्त रहेगा, इसकी रूपरेखा तैयार करें। तदनुसार संभाग में कार्य-दायित्व दिये जायेंगे। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना की जानकारी देते हुए निर्देश दिये कि आगामी अक्टूबर माह इस योजना के क्रियान्वयन की प्रमुख कार्यवाहियों के लिये अहम समय है, इसलिये चरण दर चरण इस माह में अधिकतम कार्यवाही पूरी कर ली जाये। ग्रामीण विकास विभाग द्वारा मेसन प्रशिक्षण की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि आगामी 28 से 30 सितम्बर तक भोपाल में मास्टर ट्रेनर प्रशिक्षण आयोजित किया जायेगा। इसमें हरएक जिले से आरईएस का एक उपयंत्री, एक ट्रेनिंग इंस्ट्रक्टर तथा एक अच्छा मेसन शामिल किया जाकर इस दल को ट्रेंड किया जायेगा, इसके बाद यह दल जिले में ट्रेनिंग देगा। इसके बाद पंचायत स्तर तक ट्रेनिंग आयोजित की जायेगी। अपर मुख्य सचिव ने आवास योजनाओं के सन्दर्भ में निर्देश दिये कि इसमें कोई बिचौलिया फायदा नहीं उठाये, यह सुनिश्चित करें।

उज्जैन संभाग के विभिन्न जिलों में खेल परिसरों के निर्माण की समीक्षा में अपर मुख्य सचिव ने इस बात पर सख्त नाराजगी व्यक्त की कि निर्माण कार्यों में अनावश्यक देरी की जा रही है। काम में ढिलाई बरती जा रही है। उन्होंने सभी खेल परिसरों का निर्माण आगामी दिसम्बर अन्त तक पूरा करने के सख्ती से निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ग्राम हाट बाजार योजना की समीक्षा में उन्होंने निर्देश दिये कि जिन हाट बाजारों का कार्य पूर्ण हो चुका है, वहां दुकानों का आवंटन एक सप्ताह में करवा दें। आगामी दिसम्बर तक सभी हाट बाजारों का निर्माण पूर्ण कर लिया जाये। मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना में भी उन्होंने दिसम्बर तक सभी सड़कों का निर्माण पूर्ण करने के निर्देश दिये। ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग के सन्दर्भ में अपर मुख्य सचिव ने कहा कि इस विभाग के अधिकारी सप्ताह में एक दिन छोड़कर शेष दिन मैदानी क्षेत्रों का सघन भ्रमण करें। यदि उपयंत्री गलती करता है तो जिम्मेदार सहायक यंत्री होगा, सहायक यंत्री यदि गलती करता है तो जिम्मेदार कार्यपालन यंत्री होगा, परन्तु मेरे द्वारा इन मामलों में कार्यपालन यंत्री को ही जिम्मेदार मानकर सीधी कार्यवाही उस पर की जायेगी। इसके अलावा मुख्यमंत्री की घोषणाओं, मुख्यमंत्री समाधान ऑनलाइन, लोक सेवा गारंटी, हेल्पलाइन, पंचायत भवनों के निर्माण आदि की भी समीक्षा करते हुए अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिये गये।

-शकील खान (मो.नं.-9826632452)

क्रमांक 241-3089 जोशी