August 17, 2018

Latest News

छोटे परिवारों के कारण हमारे सामाजिक मूल्यों का हृास हुआ है, वर्तमान परिदृश्य में वृद्धों के ऊपर विशेष ध्यान देना होगा-सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय, वृद्धजनों का साथ नहीं देने पर 10 हजार रूपये का जुर्माना व कैद भी हो सकती है

VRIDHJAN SAMMAN-2VRIDHJAN SAMMAN-3VRIDHJAN SAMMAN-4

VRIDHJAN SAMMAN-5VRIDHJAN SAMMAN-6

उज्जैन एक अक्टूबर। अन्तर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस के अवसर पर आयोजित समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित करते हुए सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय ने कहा कि छोटे परिवारों के कारण हमारे सामाजिक मूल्यों का हृास हुआ है और वृद्धजनों की देखभाल में कमी आई है। हमें वर्तमान परिदृश्य में वृद्धों के ऊपर विशेष ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि वृद्धों की संख्या दिनोंदिन बढ़ रही है और आधुनिक चिकित्सा ने मृत्यु के संभावना के द्वार बन्द किये हैं। वर्तमान पीढ़ी को यह समझना होगा कि हमें वृद्धाश्रम की क्या आवश्यकता है। आज यदि हम माता-पिता की सेवा करें तो भविष्य में बच्चे भी अपने माता-पिता की सेवा करेंगे। सांसद ने समाज से वृद्धजनों की सेवा में आगे आने का आव्हान किया।

अन्तर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस के अवसर पर महाकाल प्रवचन हॉल में आज एक सम्मान समारोह आयोजित किया गया। इसमें शतायु वृद्धा श्रीमती रामप्यारीबाई पति शिवनारायण महाशक्ति नगर उज्जैन का शाल, श्रीफल, तुलसी का पौधा, भगवदगीता, फलों की टोकरी एवं एक हजार रूपये की राशि भेंट कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर 80 वर्ष की पार लगभग 100 से अधिक वरिष्ठजनों का भी शाल, श्रीफल, तुलसी का पौधा, भगवदगीता, फलों की टोकरी भेंट कर सम्मान किया गया।

कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने इस अवसर पर कहा कि पूरे विश्व में आज वरिष्ठ नागरिक दिवस मनाया जा रहा है। हमने सभी जनपदों एवं नगरीय निकायों को इसी तरह के आयोजन करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि उज्जैन जिले का पहला डे-केयर सेन्टर आज उज्जैन में कोयला फाटक पर आनन्द भवन के नाम से शुरू हुआ है। इस एयरकंडिशंड डे-केयर सेन्टर का नाम आनन्दधाम रखा गया है। उन्होंने कहा कि इसमें वृद्धजनों के बैठने, पुस्तकें पढ़ने, टीवी देखने एवं हल्के व्यायाम करने की सारी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं। कलेक्टर ने कहा कि इसी तरह का एक डे-केयर सेन्टर नागदा में 2 अक्टूबर को प्रारम्भ होगा। कलेक्टर ने बताया कि 50 से ज्यादा योजनाएं अब वरिष्ठ नागरिकों के लिये संचालित की जा रही हैं। जिले में 30 हजार वृद्धजन पेंशन प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि जनसुनवाई में भी वरिष्ठ नागरिकों को तरजीह दी जा रही है। निकट भविष्य में वरिष्ठ नागरिकों के लिये पार्क बनाये जायेंगे और उज्जवला योजना के तहत वरिष्ठ वृद्ध महिलाओं को प्राथमिकता दी जायेगी। कलेक्टर ने प्रवचन हॉल में मौजूद वरिष्ठजनों से आग्रह किया कि वे 3 अक्टूबर को आयोजित होने वाले सिविल अस्पताल में विशेष स्वास्थ्य शिविर में भाग लेकर नि:शुल्क अपनी जांच करवायें एवं दवाएं प्राप्त करें। कलेक्टर ने कहा कि सभी का कर्त्तव्य है कि वे अपने बुजुर्गों का खयाल रखें, किन्तु कई बार विपरीत परिस्थितियां आ जाती हैं और बेटे-बेटी बुजुर्गों की देखभाल नहीं करते हैं। कलेक्टर ने कहा कि इसके लिये भी सरकार ने कानून बनाये रखा है, जिसके तहत 10 हजार रूपये तक का जुर्माना एवं कैद का प्रावधान है। इस तरह के मामलों में कार्यवाही करने के लिये सभी सब-डिवीजनल मजिस्ट्रेटों को विशेष हिदायत दी गई है।

कार्यक्रम में शामिल हुए विधायक श्री अनिल फिरोजिया ने कहा कि बुजुर्गों का आशीर्वाद बना रहे, इससे बड़ी कोई चीज नहीं। उन्होंने कहा कि बुजुर्गों के आशीर्वाद से कठिन से कठिन समस्याएं हल हो जाती हैं, उनका मार्गदर्शन सदैव लेते रहना चाहिये। जिला पंचायत अध्यक्ष श्री महेश परमार ने कहा कि वृद्धजन दिवस कार्यक्रम आयोजित कर नई शुरूआत की गई है। इसकी निश्चित रूप से सराहना की जानी चाहिये। उन्होंने कहा कि समय के अनुसार वृद्धजनों की सेवा में सभी को आगे आना पड़ेगा। सिंहस्थ मेला प्राधिकरण अध्यक्ष श्री दिवाकर नातू ने कहा कि समूचे विश्व के साथ वृद्धजनों को सम्मान देने एवं उनके प्रति सेवा भावना उत्पन्न करने के उद्देश्य से एक अक्टूबर को वृद्धजन दिवस मनाते आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि बुजुर्गों के अनुभवों के प्रकाश में नई पीढ़ी को आगे बढ़ना चाहिये।

परम्परागत तरीके से स्वागत हुआ

महाकाल प्रवचन हॉल पर पहुंचने वाले वृद्धजनों का परम्परागत तरीके से स्वागत किया गया। उन्हें तिलक निकालकर मोतियों की माला भेंट की गई। प्रवचन हॉल के बाहर वरिष्ठ नागरिकों के लिये नागदा की स्नेह संस्था के मानसिक रूप से नि:शक्त बालकों द्वारा तैयार किये गये खिलौने तथा मनोविकास विशेष संस्था द्वारा बनाये गये दीप आदि का स्टॉल लगाया गया। इसी तरह सेवाधाम की ओर से स्टाल लगाकर साहित्य वितरित की गई। यहां पर चलित चिकित्सालय की सुविधा भी दी गई।

सम्मान पाकर अभिभूत हो गये वृद्धजन

मुख्य अतिथि डॉ.चिन्तामणि मालवीय, कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने स्टेज से नीचे उतरकर वृद्ध अतिथियों के निकट जाकर उन्हें सम्मानित किया। इस बार सम्मान की परम्परा को बदलते हुए हार-फूल के स्थान पर अतिथियों को फलों की टोकरी भेंटस्वरूप दी। वृद्धजनों को शाल ओढ़ाकर, श्रीफल भेंटकर फलों की टोकरी भेंट की गई। सम्मानित होने आये वरिष्ठजन जिला प्रशासन की इस पहल से अभिभूत होकर घरों की ओर लौटे। सम्मान समारोह के उपरान्त वृद्धजनों के साथ सहभोज का आयोजन किया गया एवं उज्जैन दर्शन करने के इच्छुक वृद्धजनों के लिये नि:शुल्क बस की व्यवस्था की गई। सम्मान पाने वालों में प्रमुख रूप से शतायु महिला श्रीमती रामप्यारीबाई एवं 80 वर्ष से अधिक उम्र के वृद्धजनों में सर्वश्री चैतन्यगोपाल, प्रकाश दुबे, लक्ष्मीप्रसाद गौतम, मुरलीमनोहर दुबे,राधेश्याम जोशी, वी.पी.श्रीवास्तव, बिहारीलालजी, बाबूलाल सांवरिया, पत्रकार बाबूलाल जैन, दादूराम शर्मा, बी.एस.बिरथरे, गोविन्द दाभाड़े, कैलाश शर्मा, राधेश्याम दुबे, सुदर्शन चोपड़ा, श्रीमती शकुन्तला बदेका, ओमनारायण रावल, गोविन्दसिंह पण्ड्या, गोपाल भाटी, कृष्णकान्त शर्मा, रमेशचन्द्र शर्मा, दत्तराव शिन्दे, राधेश्याम उपाध्याय, पी.सी.खरे, प्रकाश चित्तौड़ा सहित सौ से अधिक सम्माननीय वृद्धजन शामिल थे।

मनोविकास विशेष विद्यालय के छात्रों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये

कार्यक्रम की शुरूआत में मनोविकास विशेष विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये। सर्वप्रथम गणेश वन्दना प्रस्तुत की गई। इसके बाद सेवाधाम आश्रम के बच्चों ने “दादी अम्मा, दादी अम्मा मान जाओ” गीत पर नृत्य प्रस्तुत किया। रंगोत्सव संस्था के बच्चों द्वारा ‘बुनियाद नाटक’ की प्रस्तुति दी गई। मनोविकास विशेष की बालिका सोनालिका ने “सत्यम शिवम सुन्दरम” गीत प्रस्तुत किया।

खेलकूद प्रतियोगिता के विजेता पुरस्कृत

नि:शक्तजनों को उपकरण वितरित

वृद्धजन दिवस समारोह में 30 सितम्बर को आयोजित वृद्धजनों की कैरम एवं शतरंज प्रतियोगिता के विजेताओं को आज मुख्य अतिथि द्वारा पुरस्कृत किया गया। पुरस्कार प्राप्त करने वालों में कैरम के लिये श्री भंवरलाल पंवार, श्रीमती मीराबाई, श्री रतनलाल पटेल तथा शतरंज के लिये श्री एस.एस.वर्मा शामिल थे। इसी तरह कार्यक्रम में नि:शक्त वृद्धजनों को सहायक उपकरण भेंट किये गये। इनमें सर्वश्री रामचन्द्र कुमार, एल.एन.सोम, श्रीमती कुंवरबाई, विश्वनाथ पण्डया व बाबूलाल तनेजा को श्रवण यंत्र भेंट किये गये तथा नारायणप्रसाद भार्गव, पुरूषोत्तम, तेजवंती जोशी व सूर्यप्रकाश सेठिया को व्हील चेयर भेंट की गई।

कार्यक्रम में महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री भरत पोरवाल, न्यायाधीश श्री रघुवीरसिंह, एडीएम श्री अवधेश शर्मा, महाकाल प्रशासक श्री रजनीश कसेरा, एसडीएम श्री क्षितिज शर्मा सहित गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे। कार्यक्रम के अन्त में आभार संयुक्त संचालक सामाजिक न्याय श्री महेश पाण्डेय ने व्यक्त किया।

-हरिशंकर शर्मा (मो.नं.-9424863313) (फोटो संलग्न)

क्रमांक 005-3155 जोशी