February 20, 2018

Latest News

उज्जैन संभाग में इस वर्ष दलहनी फसलों के रकबे में 90 हजार हेक्टेयर बढ़ोत्री

उज्जैन एक अक्टूबर। उज्जैन संभाग में इस खरीफ मौसम में दलहनी फसलों के रकबे में वृद्धि हुई है। गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष 90 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में ज्यादा बोवनी विभिन्न दालों की की गई है। संभाग में इस खरीफ में मुख्य रूप से उड़द, मूंग तथा अरहर की फसलें ली जा रही हैं। गत वर्ष खरीफ में 50.48 हजार हेक्टेयर में दलहनी फसलें बोई गई थी। इस बार यह रकबा बढ़कर 140.72 हजार हेक्टेयर हो गया है।

संयुक्त संचालक किसान कल्याण तथा कृषि विकास श्री डी.के.पाण्डेय ने बताया कि विभाग द्वारा किसानों को इस वर्ष दलहनी फसलों के ज्यादा उत्पादन के लिये प्रेरित किया गया है। इनकी विभिन्न वेरायटीज की तकनीकी जानकारी विभाग ने किसानों को दी है। मैदानी अमले ने क्षेत्रों में सतत भ्रमण के द्वारा फसलों का सघन निरीक्षण करते हुए किसानों को मार्गदर्शित भी किया है। संभाग के उज्जैन जिले में इस वर्ष 7.57 हजार हेक्टेयर में दलहनी फसलें बोई गई हैं। मंदसौर जिले में 46 हजार हेक्टेयर में बोई जाकर गत वर्ष की तुलना में 28.28 हजार हेक्टेयर में अधिक बोवनी की गई है। नीमच जिले में 16.50 हेक्टेयर, रतलाम जिले में 34.22 हजार हेक्टेयर, देवास जिले में 19.99 हजार हेक्टेयर, शाजापुर जिले में 7.23 हजार हेक्टेयर तथा आगर-मालवा जिले में 9.11 हजार हेक्टेयर में दलहनी फसलें बोई गई हैं अर्थात संभाग के सभी जिलों में इस बार दलहनी फसलों के रकबे में बढ़ोत्री हुई है।

खरीफ में 20 लाख हेक्टेयर से अधिक रकबे में फसलें बोई गई

इस खरीफ वर्ष में उज्जैन संभाग के सभी जिलों में कुल 20 लाख 83 हजार 62 हेक्टेयर क्षेत्र में खरीफ फसलों की बोवनी की गई है। इसमें सर्वाधिक रकबा सोयाबीन का है। इस वर्ष 17 लाख 18 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सोयाबीन की बोवनी हुई है। गत वर्ष की तुलना में 135 हेक्टेयर का रकबा सोयाबीन के लिये इस वर्ष कम हुआ है। गत वर्ष संभाग में 18 लाख 54 हजार हेक्टेयर में सोयाबीन बोया गया था। सोयाबीन के अलावा इस वर्ष खरीफ में धान, मक्का, ज्वार, बाजरा, तिल, मूंगफली, कपास तथा दलहनों में उड़द, मूंग व अरहर की फसलें भी ली गई हैं।

-शकील खान (मो.नं.-9826632452)

क्रमांक 001-3151 जोशी