May 26, 2018

Latest News

कालिदास समारोह को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का बनायेंगे, स्थानीय समिति की बैठक में प्रमुख सचिव ने कहा

KALIDAS SAMITI-1KALIDAS SAMITI-2

उज्जैन एक अक्टूबर। कालिदास समारोह के मूल स्वरूप को प्रतिस्थापित करेंगे तथा इसे अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का बनाएंगे। गत वर्षों में कार्यक्रम की ‘यूनिकनैस’ कम हो रही है तथा यह सामान्य आयोजनों जैसा बनता जा रहा है। अब इस कालिदास के नाटक, कविता एवं साहित्य पर ही केन्द्रित रखेंगे। इसमें संस्कृत नाटकों के लोकानुवाद का भी समावेश किया जायेगा।

अखिल भारतीय कालिदास समारोह वर्ष 2016 विक्रम संवत 2073 के आयोजन के सम्बन्ध में कालिदास अकादमी में शनिवार को आयोजित स्थानीय समिति की बैठक में प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव ने उक्त विचार प्रकट किये।

बैठक में उज्जैन विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री जगदीश अग्रवाल, पाणिनी संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति श्री पांडा, नगर निगम सभापति श्री सोनू गेहलोत, संस्कृति विभाग के आयुक्त श्री राजेश मिश्रा, श्री भगवतीलाल राजपुरोहित, पं.आनन्दशंकर व्यास, श्री बालकृष्ण शर्मा, श्री पिलकेन्द्र अरोरा, अन्य विद्वतजन, कलाप्रेमी, पत्रकारगण आदि उपस्थित थे।

पं.सूर्यनारायण व्यास व्याख्यानमाला में विशेष सत्र

बैठक में बताया गया कि कालिदास समारोह के शुभारम्भ के लिये राष्ट्रीय स्तर की हस्ती को आमंत्रित किया जायेगा। सारस्वत अतिथि के लिये दो मूर्धन्य विद्वान आमंत्रित किये जायेंगे। समारोह में आयोजित होने वाली राष्ट्रीय संगोष्ठी का विषय इस बार ‘कालिदास साहित्य एवं कलाएं’ होगा। पं.सूर्यनारायण व्यास व्याख्यानमाला के अन्तर्गत पं.श्रीनिवास रथ, श्री विष्णु श्रीधर वाकणकर तथा श्री प्रभाकर क्षोत्रिय पर आधारित विशेष सत्र भी आयोजित किये जायेंगे।

कवि सम्मेलन सबके लिये

बैठक में सुझाव दिया गया कि समारोह में आयोजित होने वाला कवि सम्मेलन सबके लिये होना चाहिये, जिसे सहर्ष स्वीकार किया गया। कालिदास समारोह के उपरान्त आयोजित होने वाले बालनाट्य को समारोह को पहले की ही तरह डॉ.शिवमंगल सिंह सुमन के नाम पर किये जाने का निर्णय भी बैठक में लिया गया।

ऑडिएंस मैनेजमेंट पर ध्यान दें

प्रमुख सचिव ने कहा कि कालिदास समारोह में ‘ऑडिएंस मैनेजमेंट’ (श्रोता प्रबंधन) पर भी ध्यान दिया जाना चाहिये, जिससे अधिक से अधिक व्यक्ति कालिदास समारोह का आनन्द ले सकें। इसके लिये उज्जैन के सभी कला/साहित्य समूहों, श्रोता वर्गों को आमंत्रित किया जाना चाहिये।

ऑडिटोरियम ठीक करवायें

बैठक में सदस्यों द्वारा सुझाव दिया गया कि कालिदास अकादमी के ऑडिटोरियम ‘अभिरंग नाट्यगृह’ को ठीक करवाया जाये। इसे वातानुकूलित किया जाये तथा ‘नाट्यगृह’ के अनुरूप बाकी व्यवस्थाएं हों। यहां अच्छी गुणवत्ता की कुर्सियां स्थाई रूप से लगाई जायें।

कालिदास समारोह-2016 के प्रस्तावित कार्यक्रम

9 नवम्बर से 16 नवम्बर 2016

1. पूर्वरंग कलश यात्रा एवं नांदी 9 नवम्बर 2016

2. प्रथम दिवस संस्कृत नाटक 10 नवम्बर 2016

3. द्वितीय दिवस शास्त्रीय शैली पर आधारित 11 नवम्बर 2016

तथा पारम्परिक शैली से

अनुप्रेरित नृत्य नाटिका

4. तृतीय दिवस हिन्दी नाटक 12 नवम्बर 2016

5. चतुर्थ दिवस लोकशैली/पारम्परिक शैली 13 नवम्बर 2016

का आयोजन

6. पंचम दिवस शास्त्रधर्मी शैली के 14 नवम्बर 2016

नृत्य का आयोजन

7. षष्ठ दिवस शास्त्रीय शैली में गायन 15 नवम्बर 2016

का कार्यक्रम

8. सप्तम दिवस शास्त्रीय शैली में वादन 16 नवम्बर 2016

का कार्यक्रम

पंकज मित्तल (मो.नं.-9301209255)

-हरिशंकर शर्मा (मो.नं.-9424863313)

क्रमांक 010-3160 जोशी