February 20, 2018

Latest News

अन्त्येष्टी सहायता परिवार को तत्काल मिले, कलेक्टर ने ग्रामीण विकास कार्यशाला में दिये निर्देश

उज्जैन 06 अक्टूबर। गरीब परिवार में मृत्यु पर शासन की योजना के तहत अन्त्येष्टी सहायता तत्काल उपलब्ध कराई जाये, ताकि परिवार द्वारा बगैर परेशानी के अन्त्येष्टी कार्य सम्पन्न हो सके। यह निर्देश कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने जिले के ग्रामीण विकास विभाग के अमले की कार्यशाला में दिये। पॉलीटेक्निक सभाकक्ष में आयोजित इस समीक्षा बैठक-सह-कार्यशाला के द्वितीय सत्र में उज्जैन के अलावा बड़नगर तथा घट्टिया विकास खण्ड का ग्रामीण विकास विभाग का अमला मौजूद था। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ श्रीमती रूचिका चौहान तथा सहायक कलेक्टर सुश्री रानी बंसल भी उपस्थित थीं।

कलेक्टर ने कहा कि किसी गरीब परिवार में मृत्यु होने पर उसको अन्त्येष्टी कार्य के लिये राशि के अभाव में परेशान नहीं होना पड़े, यह मानवीय संवेदनशीलता की दृष्टि से कतई उचित नहीं है, इसलिये पंचायत का सचिव या ग्राम रोजगार सहायक यह व्यवस्था ऐसी स्थिति में तत्काल करे। उसको यह राशि सुनिश्चित रूप से वापस मिलेगी। कार्यशाला में कलेक्टर ने मनरेगा, प्रधानमंत्री आवास, मुख्यमंत्री आवास, पेंशन योजनाओं सहित अन्य योजनाओं की विकास खण्डवार समीक्षा करते हुए आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।

कार्यशाला में कलेक्टर ने मनरेगा की समीक्षा में निर्देश दिये कि यदि किसी ग्राम पंचायत में इस योजना के तहत सालभर में सौ रोजगार दिवस सृजित नहीं हुए तो कार्यवाही की जायेगी। इस मामले में ग्राम रोजगार सहायक की सेवा समाप्त की जायेगी। जॉबकार्ड, जो अक्रिय हैं, उन्हें सक्रिय बनाया जाये। आधार सीडिंग 10 अक्टूबर के पूर्व शत-प्रतिशत कर दी जाये। आधार आधारित भुगतान के लिये यह अत्यावश्यक है।

“उपयंत्री घूमना शुरू करें, मैं भी मोटर सायकल से घूमूंगा”

कलेक्टर ने निर्माण कार्यों की समीक्षा के दौरान कसावट लाने के निर्देश देते हुए उपयंत्रियों से कहा कि वे निर्माण कार्यों के मॉनीटरिंग के लिये घूमना शुरू कर दें। मैं भी किसी मोटर सायकल के पीछे बैठकर मैदानी क्षेत्र में भ्रमण करता आपको मिल जाऊंगा। निर्माण कार्यों के पूर्णता प्रमाण-पत्र जारी करने के लिये आगामी 23 व 24 अक्टूबर को कैम्प लगाये जायेंगे। उपयंत्रियों की दौरा डायरी सहायक यंत्री तथा सहायक यंत्री की दौरा डायरी कार्यपालन यंत्री अनुमोदित करेंगे।

सचिव तथा रोजगार सहायक को इंसेंटिव नहीं मिला तो जनपद सीईओ होगा सस्पेंड

इस कार्यशाला में कलेक्टर ने पेंशन योजनाओं की समीक्षा करते हुए निर्देश दिये कि पेंशनरों के फोटो, आधार नम्बर तथा मोबाइल नम्बर तय समय-सीमा में कम्प्यूटर में समाविष्ट किये जायें। यह वन टाइम कार्य है। इस कार्य के लिये रोजगार सहायक तथा सचिव को प्रत्येक कार्य के पांच रूपये इंसेंटिव दिये जाते हैं। कुछ रोजगार सहायकों द्वारा इंसेंटिव नहीं दिये जाने की शिकायत पर कलेक्टर ने स्पष्ट कहा कि अगर आपको इंसेंटिव नहीं मिला तो सम्बन्धित जनपद पंचायत का मुख्य कार्यपालन अधिकारी निलम्बित कर दिया जायेगा।

मानसिक नि:शक्तों को प्रमाण-पत्र दिलवाकर पेंशन उपलब्ध करायें

कलेक्टर ने मानसिक नि:शक्तों को पेंशन उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में निर्देश दिये कि ग्राम पंचायत सचिव ऐसे मानसिक नि:शक्त, जो 80 प्रतिशत से ज्यादा नि:शक्तता से पीड़ित हैं, उनको स्वास्थ्य प्रमाण-पत्र दिलवायें तथा उनकी 500 रूपये वाली पेंशन चालू करवायें।

आगामी दिनों में 10 हजार आवास बनेंगे जिले में

कार्यशाला में कलेक्टर ने कहा कि आगामी दिनों में 50 हजार से ज्यादा शौचालय तथा 10 हजार आवास जिले में बनाये जायेंगे। इसके लिये बड़ी मात्रा में मटेरियल की आवश्यकता होगी। अभी से कार्य योजना बनाकर यह सुनिश्चित करें कि मटेरियल ज्यादा से ज्यादा मात्रा में स्थानीय स्तर पर ही उपलब्ध हो जाये।

स्वच्छ उज्जैन, निर्मल उज्जैन के नारे गूंजते रहे

कार्यशाला में पूरे दिन स्वच्छ उज्जैन, निर्मल उज्जैन का नारा गूंजता रहा। कलेक्टर ने स्वयं यह नारा उपस्थित अमले के साथ लगाया। शत-प्रतिशत ओडीएफ के उद्देश्य से लगाये गये इस नारे के साथ कलेक्टर ने गांव में शत-प्रतिशत घरों में शौचालय निर्माण का संकल्प दिलाया। कार्यशाला में कलेक्टर ने अच्छा कार्य करने वाले रोजगार सहायकों तथा सचिवों के सम्मान में तालियां भी बजवाई।

-शकील खान (मो.नं.-9826632452)

क्रमांक 051-3201 जोशी