August 17, 2018

Latest News

बाल भिक्षावृत्ति रोकने के लिये समाज को आगे आना होगा –अपर कलेक्टर बाल भिक्षावृत्ति रोकथाम अभियान की बैठक हुई

BAL BHIKSHAVRUTTI-1BAL BHIKSHAVRUTTI-2BAL BHIKSHAVRUTTI-3

उज्जैन 07 अक्टूबर। बाल भिक्षावृत्ति एक बड़ी समस्या है, समाज को इसको रोकने के लिये सामने आना होगा। सभी विभागों को समन्वित योजना बनाकर इसकी रोकथाम करने हेतु प्रभावी कदम उठाने की आवश्यकता है। अपर कलेक्टर श्री नरेन्द्र सूर्यवंशी ने यह बात आज बाल भिक्षावृत्ति रोकथाम अभियान की बैठक में कही। बैठक में सिंहस्थ प्राधिकरण अध्यक्ष श्री दिवाकर नातू, समिति के जिला स्तरीय सदस्य श्री ललित श्रीमाल, सुश्री साधना सेठी, रोटरी क्लब के श्री रविप्रकाश लंगर सहित अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद थे।

बैठक में जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी श्री साबिर एहमद सिद्धिकी ने बताया कि बाल भिक्षावृत्ति रोकथाम अभियान में विभिन्न विभागों को कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने पत्र लिखकर जिम्मेदारी सौंपी है। सौंपी गई जिम्मेदारी अनुरूप गृह विभाग को किशोर न्याय अधिनियम के अनुसार कार्यवाही करना है। रेलवे पुलिस के माध्यम से रेलवे स्टेशन एवं परिक्षेत्र में रहने वाले बच्चों का पुनर्वास सुनिश्चित करना है। इसी तरह पंचायत एवं सामाजिक न्याय विभाग को भिक्षावृत्ति से जुड़े परिवारों को रोजगारोन्मुखी कार्यक्रम से जोड़ना एवं कार्य योजना बनाना है।

स्कूल शिक्षा विभाग को विद्यालय छोड़ चुके भिक्षावृत्ति करने वाले, कूड़ा बीनने वाले बच्चों का विद्यालय में पुनर्प्रवेश सुनिश्चित करने का काम सौंपा है। इसी तरह अनुसूचित जाति, जनजाति विभाग, श्रम विभाग, चिकित्सा विभाग, उद्योग एवं वाणिज्य विभाग, पर्यटन विभाग, राजस्व विभाग, तकनीकी कौशल विभाग को भी भिक्षावृत्ति रोकने सम्बन्धित काम सौंपे गये हैं।

उपयोगी सुझाव आये

बैठक में सदस्यों द्वारा बाल भिक्षावृत्ति रोकने हेतु उपयोगी सुझाव दिये गये। श्री ललित श्रीमाल ने बैठक के पूर्व बाल भिक्षावृत्ति रोकने हेतु किये गये कार्यों का ब्यौरा पूर्व से ही सदस्यों को उपलब्ध करवाने को कहा। सुश्री साधना सेठी ने बालिकाओं के लिये पृथक से बालगृह बनाये जाने का स्वागत करते हुए बालगृहों को औद्योगिक संस्थाओं द्वारा गोद लिये जाने की बात कही। रोटरी क्लब के श्री रविप्रकाश लंगर ने कहा कि वोकेशनल ट्रेनिंग सेन्टर अच्छा काम कर रहे हैं। उन्होंने शहर में पन्नी बीनने वाले छात्रों की पहचान करने हेतु सघन अभियान चलाये जाने की मांग रखी। सिंहस्थ मेला प्राधिकरण अध्यक्ष श्री दिवाकर नातू ने कहा कि इस तरह की बैठकें प्रतिमाह आयोजित होना चाहिये। उन्होंने बाल भिक्षावृत्ति की जड़ पर प्रहार करने का आव्हान किया। बैठक में जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी श्री रजनीश सिन्हा, श्री संजय सक्सेना, श्री मोहन खंडेलवाल, श्री दिनेश मालवीय, सुश्री मीरा आदि गणमान्य सदस्य मौजूद थे।

-हरिशंकर शर्मा (मो.नं.-9424863313) (फोटो संलग्न)

क्रमांक 060-3210 जोशी